एंटीवायरल दवा का क्लीनिकल ट्रायल सफल, एचआइवी का जड़ से करेगी खात्मा

न्यूयार्क। एंटीवायरल दवा लेनाकापाविर का क्लीनिकल ट्रायल सफल रहा है। इस नई दवा से एचआइवी का पूरी तरह से इलाज हो सकेगा। बता दें कि यह ट्रायल युगांडा और दक्षिण अफ्रीका में महिलाओं पर किया गया। क्लीनिकल ट्रायल के दौरान नई एंटीवायरल दवा के साल में दो बार इंजेक्शन लगाए गए और महिलाओं को एचआइवी से पूरी तरह सुरक्षा मिली।

अन्य दवाओं की तुलना में अधिक कारगर

एडवोकेसी फार प्रिवेंशन आफ एचएचआइवी एंड एड्स इन साउथ अफ्रीका के प्रमुख यवेटे राफेल ने कहा कि दो अन्य दवाओं की तुलना में एचआइवी संक्रमण से बचाव में अधिक कारगर है।
रोजाना डेस्कोवी नामक दवा दी

उन्होंने बताया कि ट्रायल के दौरान 2,134 महिलाओं को लेनाकापाविर इंजेक्शन दिया गया। इनमें से किसी भी महिला को एचआइवी संक्रमण नहीं हुआ। 1,068 को रोजाना एचआइवी की दूसरी दवा ट्रुवाडा दी गई और इनमें से 16 महिलाएं एचआइवी से संक्रमित हुईं। अन्य 2,136 महिलाओं को रोजाना डेस्कोवी दवा दी गई। इनमें से 39 महिलाएं एचआइवी से संक्रमित पाई गईं।

लेनाकापाविर दवा उपलब्धत कराने के लिए प्रतिबद्ध

लेनाकापाविर की निर्माता कंपनी गिलियड के अनुसार डाटा का पीयर रिव्यू अभी नहीं किया गया है। कंपनी कम आय वाले देशों में जल्द से जल्द सुलभ मूल्य पर बड़ी मात्रा में लेनाकापाविर दवा उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है।