नकली दवा की बिक्री का खुलासा, 45 दवा विक्रेताओं के लाइसेंस कैंसिल

आगरा। नकली दवा की बिक्री किए जाने का खुलासा हुआ है। ड्रग विभाग की टीम ने आगरा के कई मेडिकल स्टोरों से लिए गए दवाओं के सैंपल जांच के लिए लैब भेजे गए थे। अब इनकी जांच रिपोर्ट आई है, जिसमें ये सैंपल फेल पाए गए हैं। 45 दवा विक्रेताओं के लाइसेंस कैंसिल कर दिए गए हैं।

यह है मामला

आगरा में बड़ी मात्रा में एंटीबायोटिक दवाएं और खांसी के सिरप की सप्लाई होती हैं। इसके चलते ड्रग विभाग की टीम ने कई मेडिकल स्टोरों से दवाओं के 39 सैंपल लिए थे। इसमें 20 सैंपल एंटीबायोटिक टेबलेट , 5 गैस के कैप्सूल और 14 खांसी के सिरप के सैंपल शामिल थे। लैब में दवाओं के सैंपल की जांच की गई तो वे फेल मिले। तब जाकर नकली दवाओं की बिक्री का मामला सामने आया। रिपोर्ट आने के बाद 45 दवा विक्रेताओं के लाइसेंस कैंसिल कर दिए गए हैं।

इन दवाओं के सैंपल मिले फेल

जिन कंपनियों के नाम से नकली दवा बाजार में बेची जा रही हैं, उनमें प्योर एंड क्योर हेल्थकेयर , हिमालिया मेडिटेक , कैंडिला हेल्थ केयर , अल्फा प्रॉडक्ट , एबॉट हेल्थकेयर , विंग्स सहित नामी कंपनियां शामिल हैं।

दवाओं के सैंपल फेल होने पर ड्रग विभाग के एसिस्टेंड कमिश्नर अतुल उपाध्याय ने बताया कि पिछले वित्तीय वर्ष में लिए गए सैंपल की जांच रिपोर्ट के बाद कार्यवाही की गई है। उन्होंने आमजन से अपील की कि दवा लेते समय जागरूक होना चाहिए। दुकानदार से बिल मांगे और क्यूआर कोड को स्कैन करने के बाद ही दवा खरीदे।