नशीली दवा की खेप और ड्रग मनी के साथ दो तस्कर अरेस्ट

लुधियाना। नशीली दवा की खेप और ड्रग मनी के साथ दो तस्करों को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपियों की पहचान स्थानीय मोहला बाजड़ा निवासी पवन कुमार (37 वर्ष) पुत्र अशोक कुमार और अमृतसर के मकबूलपुरा महता रोड पर रहने वाले साहिल सिंह (19 वर्ष) पुत्र साहिब सिंह के रूप में हुई है।

यह है मामला

सीपी लुधियाना आईपीएस कुलदीप सिंह चाहल के निर्देशन में डिवीजन-3 के एसएचओ अमृत पाल सिंह व उनकी टीम ने दो नशा तस्करों को गिरफ्तार किया। तस्करों के कब्जे से नशीली गोलियों की खेप और ड्रग मनी बरामद की गई है।
एडीसीपी वन और एसीपी सेंट्रल ने बताया कि पुलिस को नशीली दवा तस्करों के बारे में गुप्त सूचना मिली थी।

ट्रामाडोल हाइड्रोक्लोराइड की नशीली गोलियां बरामद 

पुलिस ने दोनों आरोपियों को गुप्त सूचना के आधार पर निंम वाला चौक पर नाकाबंदी की। वाहनों की चेकिंग के दौरान दो युवकों को रोककर उनकी तलाशी ली। तलाशी में उनके कब्जे से 34 हज़ार 180 ट्रामाडोल हाइड्रोक्लोराइड 100 एमजी की नशीली गोलियां और 2 लाख 40 हज़ार भारतीय करेंसी ड्रग मनी बरामद की गई। दोनों युवकों को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ थाना डिवीजन नंबर तीन में एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया। दोनों आरोपी युवकों को कोर्ट में पेश कर पूछताछ के लिए रिमांड पर लिया गया है।

आरोपियों के आपराधिक रिकॉर्ड

एसएचओ अमृतपाल सिंह ने बताया गिरफ्तार आरोपी पवन कुमार के खिलाफ पहले भी तीन एनडीपीएस एक्ट के मामले दर्ज हैं। एक मामला 2016 अक्टूबर में डिवीजन 3 का है। इसमें आरोपी से 900 नशीली गोलियां मिली थी। दूसरा मामला वर्ष 19 नवंबर में जगराओं के थाना सदर का है। इसमें आरोपी से 26 हज़ार नशीली गोलियां, सवा लाख ड्रग मनी और अल्टो कार बरामद हुई थी। तीसरा मामला मार्च 2021 का थाना सुधार में दर्ज है। उक्त मामले में आरोपी से 2400 नशीली गोलियां ट्रामाडोल बरामद हुई थी। दूसरे आरोपी साहिल के खिलाफ पहले कोई मामला रिकार्ड में सामने नहीं आया है।

लंबे समय से कर रहे तस्करी

नशीली दवा

आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में बताया है कि वे नशीली गोलियों की खेप बस में लुधियाना लेकर आए थे। वे लंबे समय से नशीली गोलियों की तस्करी के धंधे में जुड़े हैं। उनकी प्लानिंग अमृतसर में भी नशीली गोलियों की सप्लाई करने की थी। यह भी पता चला है कि दोनों आरोपी जेल के लिंक से जुड़े हुए थे।