नशीली दवा मेफेड्रोन बनाने वाली तीन लैब का भंडाफोड़, 300 करोड़ की दवाइयां जब्त

जोधपुर। नशीली दवा मेफेड्रोन बनाने वाली तीन लैब का भंडाफोड़ हुआ है। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने गुजरात पुलिस के आतंकवाद रोधी दस्ते के साथ मिलकर यह कार्रवाई की। संयुक्त टीम ने इन अत्याधुनिक गुप्त प्रयोगशालाओं पर छापामारी कर 300 करोड़ रुपए से अधिक कीमत की दवाइयां जब्त की हैं।

ब्यूरो के अनुसार अभी चौथी प्रयोगशाला पर छापेमारी जारी है। कई राज्यों में चले ऑपरेशन में 149 किलोग्राम मेफेड्रोन (पाउडर और तरल रूप में), 50 किलोग्राम एफेड्रिन और 200 लीटर एसीटोन जब्त किया गया है। इस अभियान में कुल सात व्यक्ति गिरफ्तार किए गए हैं। सरगना की पहचान भी कर ली गई है।

यह है मामला

आतंकवाद रोधी दस्ते को गुजरात और राजस्थान से संचालित गुप्त प्रयोगशालाओं के बारे में सूचना मिली थी। तीन महीने से अधिक समय तक ऑपरेशन चलाकर इस नेटवर्क में शामिल लोगों की पहचान की गई।

संयुक्त टीमों ने राजस्थान के जालोर जिले के भीनमाल, जोधपुर जिले के ओसियां और गुजरात के गांधीनगर जिले में एक साथ छापेमारी की। इस दौरान कुल 149 किलोग्राम मेफेड्रोन (पाउडर और तरल रूप में), 50 किलोग्राम एफेड्रिन और 200 लीटर एसीटोन की बरामदगी की गई।

बता दें कि मेफेड्रोन, जिसे 4-मिथाइलमेथकैथिनोन, 4-एमएमसी और 4-मिथाइलफेड्रोन के रूप में भी जाना जाता है, एम्फ़ैटेमिन और कैथिनोन वर्गों की एक सिंथेटिक उत्तेजक दवा है।