पीएचसी के फार्मासिस्ट का फर्जी निकला जाति प्रमाण पत्र, टर्मिनेट

शिवपुरी। पीएचसी में नियुक्त फार्मासिस्ट का जाति प्रमाण पत्र जांच में फर्जी मिलने का समचार है। इसके चलते फार्मासिस्ट को टर्मिनेट कर दिया गया है। फार्मासिस्ट ने अपना जाति प्रमाण पत्र फर्जी बनवाया और इसी आधार पर आरक्षण का लाभ लेकर सिरसौद पीएचसी में नौकरी पा ली।

हैरानी वाली बात यह है कि ग्वालियर के कार्यालय अनुविभागीय अधिकारी राजस्व लशकर ने इस फर्जी जाति प्रमाण पत्र को प्रमाणित भी कर दिया था। जब इसकी सत्यता की दोबारा जांच की गई तो यह जाति प्रमाण पत्र फर्जी पाया गया।

यह है मामला

गौरीशंकर राजपूत ने 6 अक्टूबर 2023 को शिकायत दर्ज कराई कि महेन्द्र सिंह पुत्र श्री खडग़ सिंह प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सिरसौद जिला शिवपुरी में फार्मासिस्ट के पद पर पदस्थ है। आरोप था कि महेंद्र सिंह ने अनुसूचित जनजाति वर्ग के फर्जी प्रमाण पत्र पर सरकारी नौकरी पाई है। इसकी जांच करवाई जाए।

जाति प्रमाण पत्र का पुन: सत्यापन कराया

इस शिकायत के बाद मामले की जांच शुरू की गई। डॉ. अमर सिंह अनीरिया को जांच अधिकारी बनाया गया। जांच में कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जिला शिवपुरी ने अनुविभागीय अधिकारी(राजस्व) ग्वालियर जिला ग्वालियर को पत्र लिखा कि महेन्द्र सिंह के जाति प्रमाण पत्र का सत्यापन किया जाए। कार्यालय अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) लश्कर जिला ग्वालियर ने पत्र के बाद इस जाति प्रमाण पत्र का पुन: सत्यापन कराया गया। जांच में महेन्द्र सिंह जाति- मांझी (अनुसूचित जनजाति) में दर्ज नहीं पाया गया।