फर्जी एमआर ने दवा व्यापारी से तीन लाख रुपये ठगे

आगरा। फर्जी एमआर ने जीवन रक्षक दवाइयां बेचने के नाम पर एक दवा व्यापारी से तीन लाख रुपये की ठगी कर ली। कोर्ट के आदेश पर जगदीशपुरा क्षेत्र पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज किया है

जगदीशपुरा स्थित आवास विकास कॉलोनी के सेक्टर तीन में कैला मां ड्रग हाउस के संचालक जितेंद्र गोयल के साथ यह ठगी हुई। पीडि़त दवा व्यापारी जितेंद्र गोयल ने बताया कि उनके पास राजस्थान के जयपुर के केयर मेडिकल साल्यूशंस का प्रतिनिधि बनकर एक युवक ने 22 जून को वाट्सएप पर संपर्क किया।

जीवन रक्षक दवाओं का आर्डर

पीडि़त व्यापारी ने बताया कि फर्जी एमआर से उन्होंने बाजार में कम उपलब्ध जीवन रक्षक दवाओं के बारे में जानकारी ली। ठग ने दवाएं उपलब्ध होने की बात कही तो उन्होंने आर्डर दे दिया। कुछ दिन बाद ठग ने व्यापारी को दो बिल भेज दिए। इस पर व्यापारी ने एडवांस के तौर पर उसे 50 हजार रुपये का भुगतान कर दिया।

दो माह तक झांसा देता रहा

फर्जी एमआर

कई दिन बीतने पर भी दवाएं नहीं पहुंची तो एमआर से बात की। आरोपी ठग ने पूरा भुगतान होने पर ही दवाइयों की डिलीवरी करवाने की बात कही। ऐसे में दवा व्यापारी ने दोनों बिलों के कुल तीन लाख तीन हजार रुपये बैंक खाते के जरिए भेज दिया। आरोपी इसके बावजूद दो माह तक झांसा देता रहा और बाद में अपना फोन भी बंद कर दिया।

कोर्ट की शरण

दवा व्यापारी खुद जयपुर पहुंचा और कंपनी में जाकर जांच पड़ताल की। उन्हें बताया गया कि आरोपी उस कंपनी में नहीं है। उसने फर्जी बिल भेजकर उनके साथ ठगी की है। दवा व्यापारी ने अपने साथ हुई ठगी की शिकायत पुलिस में की। पुलिस की ओर से कोई मामला दर्ज न किए जाने पर उसने कोर्ट की शरण ली। कोर्ट ने इस मामले में पुलिस को केस दर्ज करने के आदेश दिए हैं।