सिप्ला फार्मा की पैकिंग में कमी, ग्लेनमार्क की दवा मानकों पर खरी नहीं, वापस मंगाई दवाएं

सिप्ला

मुंबई। सिप्ला फार्मा और ग्लेनमार्क कंपनी ने अमेरिकी बाजार से अपनी दवाइयां वापस मंगवाई हैं। इनके विनिर्माण संबंधी समस्याओं को मुख्य कारण बताया गया है। अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (यूएसएफडीए) की रिपोर्ट के अनुसार न्यू जर्सी में सिप्ला की सहायक कंपनी इप्राट्रोपियम ब्रोमाइड और एल्ब्युटेरोल सल्फेट इनहेलेशन सॉल्यूशन के 59,244 पैक वापस मंगा रही है।

बताया गया है िक रिस्प्यूल्स में कम मात्रा भरने और थैली में कुछ लिक्विड देखे जाने की शिकायतें मिलीं थी। िजन दवाओं को वापस मंगाया जा रहा है, उन दवाओं का इस्तेमाल अस्थमा, क्रोनिक ब्रोंकाइटिस और वातस्फीति सहित फेफड़ों की बीमारियों को नियंत्रित करने में किया जाता है।

सिप्ला

यूएसएफडीए के अनुसार ग्लेनमार्क डिल्टियाज़ेम हाइड्रोक्लोराइड की 3,264 बोतलें वापस ले रहा है। इस दवा का उपयोग उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए किया जाता है। कंपनी की अमेरिका स्थित शाखा, ग्लेनमार्क फार्मास्यूटिकल्स ने देश भर से दवा को वापस लेने की शुरुआत की।

ल्यूपिन ने एंटीबायोटिक की बोतलें वापस मंगाई

उधर, अमेरिकी स्वास्थ्य नियामक के अनुसार दवा बनाने वाली कंपनी ल्यूपिन ने अमेरिकी बाजार से अपनी दवाओं को वापस ले लिया है। ल्यूपिन ने अमेरिकी बाजार में एंटीबायोटिक दवा रिफैम्पिन कैप्सूल (300 मिलीग्राम) की 26,352 बोतलें वापस मंगाईं है।