सावधान : होली पर उड़ न जाए आंखों का रंग

जीवन में आंखें न हो तो जीने की इच्छा ही टूट जाती है, इसलिए उत्सव कोई भी हो, आंखों की संभाल जरूरी है, खासकर जब त्यौहार होली का हो तो सावधानी और बढ़ जाती है। कुछ दिन बाद होली आ रही है, कैसे रखें ख्याल, पढ़े नीचें: 
 
आंखों में खुजली और सूजन:  होली के रंग आंखों में चले जाएं तो बार-बार आंखें खुजलाएंगे, जिससे आंखों में सूजन आ सकती है और आंखों की पुतली लाल हो सकती है। कई बार पानी से धोकर भी आराम नहीं मिलता।
रंगों का रेटिना पर प्रभाव: कई बार घटिया या रासायनिक रंगों के इस्तेमाल से रेटिना खराब हो सकता है। जिससे आपको धुंधला दिखाई देना या कम दिखाई देने की समस्या होने लगती हैं।
अंधापन: कई बार गहरे कैमिकल रंग या फिर जिन रंगों में कांच मिला होता है यदि वे आंख में चले जाएं तो अंधता का शिकार होना पड़ सकता है। यानी आपकी होली बेरंग हो सकती है। थोड़ी सी मस्ती आपके लिए उम्र भर की सजा बन सकती है।

थोड़ा सा करें बचाव फिर खूब लूटें मस्ती
चश्मा लगाएं और सूखा रंग उड़ाएं: होली के दौरान यदि आप हर्बल रंगों का इस्तेमाल करेंगे तो आसानी से आंखों में जाने वाले रंगों को धो सकते हैं। दरअसल, गीले और गहरे रंगों को छुड़ाना बेहद मुश्किल होता है। जैसे ही आपको आंखों में कुछ असहज मालूम हो या फिर आपको रंगों का आंखों में जाने का आभास हो तो तुरंत आंख धो लें। होली के दौरान चश्मा लगाएं, इससे आप आंखों में रंग जाने से बचा सकते हैं।
डॉक्टर की सलाह: आंखों में बहुत जलन हो रही है और दर्द भी हो रहा है तो आपको बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।