फार्मासिस्ट जरूरी किया तो आंदोलन करेंगे केमिस्ट

दवा दुकानें 40 हजार से ज्यादा, फार्मासिस्ट मात्र 7000 
पटना। सरकार ने फार्मासिस्ट की अनिवार्यता नहीं हटाई तो सूबे में 80 फीसदी दवा दुकानें बंद हो जाएंगी। इससे तीन लाख से अधिक परिवार बेरोजगार हो जाएंगे। बिहार केमिस्ट एवं ड्रगिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष परसन कुमार सिंह एवं महासचिव अमरेंद्र कुमार ने कहा कि सूबे में 40 हजार से ज्यादा दवा दुकानें हैं, लेकिन फार्मासिस्ट मात्र 7 हजार हैं। राज्य सरकार ने अपने आदेश में कहा है कि अब एक फार्मासिस्ट, एक ही दुकान का संचालन कर सकता है। ऐसे में राज्य की अधिकांश दवा दुकानें बंद हो जाएंगी और दवाओं का संकट भी होगा। एसोसिएशन ने सरकार से मांग की है कि अपने आदेश वापस लेने की मांग की है। अगर जल्द इस संबंध में फैसला नहीं लिया गया तो वे आंदोलन के लिए मजबूर होंगे।