घर से नशीली गोलियां जब्त, पुलिस ने आरोपी को छोड़ अज्ञात पर किया केस दर्ज

सादुलशहर (राजस्थान)। पुलिस ने नूरपुरा गांव के एक मकान में छापामारी कर 600 नशीली प्रतिबंधित गोलियां बरामद की हैं। हैरानी की बात यह है कि पुलिस ने आरोपी मकान मालिक सुलतान खान के बजाय किसी अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस अभी थाने पहुंची ही थी कि आरोपी के पक्षधर गांव के एक गुट के लोग थाने पहुंच गए और पुलिस की इस कार्रवाई पर सवाल खड़े कर दिए। लोगों ने आरोपी को निर्दोष बताते हुए पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए। दूसरा गुट भी बड़ी संख्या में थाने पहुंच गया। इन लोगों ने पुलिस की इस कार्रवाई को सही ठहराते हुए आरोपी को आदतन तस्कर बताया। अब पुलिस के सामने समस्या खड़ी हो गई। आखिरकार दबाव में आई पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। हालांकि आरोपी सुलतान को राउंडअप ही रखा गया है।
इस कार्रवाई के संबंध में थानाधिकारी बलराज मान ने बताया कि उन्हें मुखबिर से सूचना मिली थी कि नूरपुरा में सुलतान खान नशीली दवा का धंधा करता है। उसके घर से बड़ी मात्रा में नशीली दवाएं बरामद हो सकती हैं। इस सूचना पर छापा मारा गया। आरोपी के घर के मुख्य दरवाजे पर गेट ही नहीं लगा हुआ है। उसकी रसोई खुली पड़ी थी। तलाशी में रसोई में पैकेट में उक्त 600 नशीली प्रतिबंधित गोलियां मिल गई। आरोपी खुद अलग कमरे में सो रहा था। उसे नींद से उठाकर थाने लाया गया। उससे पूछताछ में इन गोलियों के बारे में अनभिज्ञता जताई। हालांकि उसके घर से नशीली दवा बरामद हुई हैं, इसलिए उसे राउंडअप कर पूछताछ की जा रही है। उधर, प्रकरण को लेकर ग्राम पंचायत सरपंच रमनीक सिंह, पंचायत समिति के डायरेक्टर राकेश ओड की अगुवाई में ग्रामीणों ने पुलिस थाना के समक्ष पहुंचकर राउंडअप किए गए सुलतान खान को निर्दोष बताया। इन्होंने एसएचओ को बताया कि आरोपी एक गरीब परिवार से है तथा नशीली गोलियां बेचने का धंधा नहीं करता। किसी ने फंसाने को उसके मकान में रंजिशवश नशीली गोलियां रखी हंै। वहीं, दूसरी तरफ ग्राम पंचायत निवासी भाजयूमो जिला महामंत्री विश्वास पूनिया, देहात अध्यक्ष छपिंद्र सिंह संधू, नूरनवी खान, गुलाब मोहम्मद, उस्मान खान, तुफैल खान,अकबर अली,पूर्व डायरेक्टर कुलशंत कड़वासरा,रिंकू ठाकरे,पूर्व पार्षद विक्की बजाज आदि भी समर्थकों के साथ थाने पहुंचे। इन्होंने बताया कि आरोपी के खिलाफ पूर्व में भी मादक पदार्थ तस्करी के मामले दर्ज हैं। थानाधिकारी मान ने स्वीकार किया कि आरोपी सुलतान पर एनडीपीएस एक्ट के पूर्व में भी मामले दर्ज हैं। लोगों ने बताया कि उसे स्मैक तस्करी के आरोप में पकड़ा गया था। तब वह करीब चार माह जेल भी रहकर आया है।