फार्मासिस्टों को नहीं मिल पाए स्वास्थ्य मंत्री, की नारेबाजी 

अम्बाला। हरियाणा के सरकारी फार्मासिस्ट संगठन के सदस्यों ने रविवार को राज्य के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के घर के बाहर मंत्री की अनुपस्थिति में जमकर नारेबाजी की। राज्यभर से आए करीब 300 फार्मासिस्ट अलसुबह स्वास्थ्य मंत्री के घर के निकट इकट्ठा होने शुरू हुए। सवेरे करीब 10 फार्मासिस्ट शास्त्री कालोनी के गेट पर खड़े थे, तभी विज पूर्व नियोजित बैठक में भाग लेने शहर से बाहर चले गए। वापसी के इंतजार में सडक़ के किनारे बैठ गए। करीब 2 बजे कैंडल मार्च करते बाजारों से होते हुए विज के घर पहुंचे तो गेट पर भारी पुलिस बल मौजूद था। फार्मासिस्ट मंत्री को मिलकर ज्ञापन देना चाहते थे परन्तु उनकी अनुपस्थिति में तहसीलदार ज्ञापन लेने आए तो फार्मासिस्ट भडक़ गए और ज्ञापन देने से मना कर दिया । फार्मासिस्ट अड़ गए कि ज्ञापन स्वास्थ्य मंत्री को ही देंगे अन्यथा रोड जाम कर देंगे। स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए जहां पुलिस चौकन्नी हुई वहीं स्वस्थ्य मंत्री के पीए अजय ज्ञापन लेने आये और मंत्री की अनुपस्थिति का स्पष्टीकरण दिया, साथ ही आश्वस्त किया कि 5 फरवरी को प्रात: 10.30 बजे मिलवा देंगे। पहले फार्मासिस्ट नहीं माने किन्तु बाद में सहमत हुए कि यदि उस दिन नहीं मिले तो 6 फरवरी 2019 को राज्यभर के सभी सरकारी फार्मासिस्ट अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। प्रदेशाध्यक्ष विनोद दलाल ने फार्मासिस्टों से अपील की कि 5 फरवरी को अपने अपने कार्यालय में छुट्टी की एप्लीकेशन साथ लेकर जाएं। स्वास्थ्य मंत्री से वार्ता बेनतीजा होने पर सन्देश का इंतजार करें। 6 को राज्यव्यापी हड़ताल की घोषणा का इन्तज़ार करें और एकजुटता का प्रमाण दें। अपनी सभी मांगों को मनवाने के पश्चात ही काम पर लौटेंगे। फिलहाल मौके पर मौजूद स्वास्थ्य मंत्री के पीए एवं तहसीलदार ने फार्मासिस्टों का ज्ञापन लेकर फार्मासिस्टों का आंदोलन समाप्त करवाया।