फार्मा कंपनयों पर लटकी एफडीए की तलवार

विशाखापट्टनम। यूएस एफडीए ने फार्मा कंपनियों डिवीज लैब और डॉक्टर रेड्डीज की विशाखापट्टनम यूनिट पर सवाल खड़े किए हैं । इसके चलते डिवीज लैब्स करीब 20 फीसदी टूट गया है। एफडीए के इंपोर्ट अलर्ट जारी करने पर डिवीज लैब का कहना है कि वाइजैग यूनिट के लिए जारी इंपोर्ट अलर्ट से 10 प्रोडक्ट बाहर हैं। वहीं, डॉक्टर रेड्डीज के प्लांट पर यूएस एफडीए ने कुल 13 आपत्तियां दर्ज की थीं। इनमें दुवाडा प्लांट पर आपत्तियों को ठीक से नहीं सुधारने, प्रोडक्ट डिस्ट्रिब्यूशन की गड़बडिय़ों का सही जवाब नहीं देने, लीकेज दिक्कतें ठीक से नहीं जांचने और बताए गए ऑर्गेनिज्म की ठोस जांच नहीं करने की बात कही गई है। इन दोनों शेयरों के बारे में फाइजर के पूर्व एमडी केवल हांडा का कहना है कि फार्मा कंपनियों को इस तरह की मुश्किलों से निपटने के लिए टेक्नोलॉजी अपग्रेड करने और जूनियर लेबल से ही अपने कर्मियों की ट्रेनिंग पर ध्यान देना होगा।