भारतीय फार्मा कंपनियों पर विदेश में केस दर्ज

नई दिल्ली। डा. रेड्डीज, वॉकहार्ट, अरबिंदो तथा ग्लेनमार्क आदि प्रसिद्ध दवा कंपनियों के खिलाफ अमेरिका में केस दर्ज हो गया है। इन कंपनियों पर अमेरिका में प्रतिस्पर्धा रोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप है, हालांकि इन कंपनियों ने आरोपों से इनकार किया है। ये सभी घरेलू औषधि कंपनियां उन 21 जेनेरिक दवा कंपनियों तथा 15 अन्य व्यक्तिगत प्रतिवादियों में शामिल हैं जिनके खिलाफ अमेरिका के 49 राज्यों के एटार्नी जनरल, कॉमनवेल्थ आफ प्यूर्टो रिको तथा डिस्ट्रिक्ट आफ कोलंबिया ने 116 जेनेरिक दवाओं के संदर्भ में डिस्ट्रिक्ट आफ कनेक्टिकट के लिए अमेरिकी जिला अदालत में शिकायत दर्ज कराई है। कंपनियों पर कीमत तय करने तथा ग्राहक बांटने को लेकर प्रतिस्पर्धा कानून का उल्लंघन करने का आरोप है। शेयर बाजारों को अलग-अलग दी गई सूचना में कंपनियों ने आरोप से इनकार किया और कहा कि वे मामले में मजबूती से अपना पक्ष रखेंगी। डा. रेड्डीज ने कहा कि हम इन आरोपों का पुरजोर तरीके से विरोध करेंगे। कंपनी के अनुसार उसकी अमेरिकी अनुषंगी इकाई के खिलाफ मुकदमा दायर होने का उसके परिचालन और एकीकृत परिणाम पर कोई खास प्रभाव पडऩे की आशंका नहीं है। सन फार्मा ने कहा कि उसकी अनुषंगी तारो फार्मास्युटिकल्स यूएसए इंक का नाम दूसरे मुकदमे में है। जो आरोप लगाये गये हैं, उसका कोई आधार नहीं है और हमारी अनुषंगी इकाइयां मजबूती से अपना पक्ष रखेंगी। वॉकहार्ट ने भी कहा कि विभिन्न जेनेरिक दवाओं की कीमतों में वृद्धि को लेकर प्रतिस्पर्धा कानून के उल्लंघन को लेकर कार्रवाई की गयी है। कंपनी उपयुक्त मंच पर अपना पक्ष मजबूती से रखेगी। ग्लेनमार्क और अरबिंदो फार्मा ने कहा है कि वह मुकदमे की समीक्षा कर रही है और उम्मीद है कि निर्धारित समय में आरोपों के खंडन से जुड़े दस्तावेज संघीय अदालत में जमा करेंगी।
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here