पहली बार बदला एमबीबीएस का सिलेबस, इसी सत्र से होगा लागू 

रोहतक। देश में पहली बार मेडिकल एजुकेशन का सिलेबस बदल दिया गया है। यह इसी सत्र में अगस्त से लागू होने जा रहा है। करीब 500 मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस के 70 हजार स्टूडेंट्स इस बार बदला हुआ पाठ्यक्रम पढ़ेंगे। मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) के अनुसार पूरे देश में 20 रीजनल सेंटर बनाए गए हैं। नए सिलेबस में डॉक्टरों को व्यावहारिक ज्ञान भी सिखाया जाएगा। इस बारे में कोटा मेडिकल कॉलेज की मेडिकल एजुकेशन यूनिट के चेयरमैन डॉ. विजय सरदाना ने उदाहरण देकर समझाया कि – मान लीजिए किसी मरीज की डेथ होने वाली है, जिसका डॉक्टर को अनुमान हो चुका है। उस स्थिति में मरीज के तीमारदारों को कैसे इसकी जानकारी देनी है, यह भी अब पढ़ाया जाएगा। अब तक सीधे वर्किंग प्लेस पर ही जाकर परिस्थितियों से सामना होता था। अब पढ़ाई कंपीटेंसी बेस लर्निंग पर आधारित है। इससे तय होगा कि एक मॉड्यूल पढ़ाने के बाद आपको क्या ज्ञान होना चाहिए। उन्होंने बताया कि पूरी दुनिया में पाठ्यक्रम का यही मॉडल लागू है। इसलिए अब भारत में इसे लागू करने का दबाव है, क्योंकि वल्र्ड फेडरेशन ऑफ मेडिकल इंस्टीट्यूट भारत सरकार को आगाह कर चुकी है। फेडरेशन ने ये भी कहा कि 2024 में पास होने वाले बैच यही पाठ्यक्रम पढक़र आएंगे, तभी उन्हें ग्लोबल मान्यता मिलेगी।
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here