पीसीए के महासचिव सुरेन्द्र दुगगल ने कैमिस्टों को आ रही समस्याओं के ज्ञापन सौंपे

अमृतसर। लगभग 8.5 लाख दवा विक्रेताओं का प्रतिनिधित्व करने वाले ऑल इंडिया आर्गेनाइजेशन ऑफ कैमिस्ट एंड ड्रगिस्ट तथा लगभग 21940 दवा विक्रेताओं का प्रतिनिधित्व करने वाली पंजाब कैमिस्ट एसोसिशन ने अपनी रोजमर्रा की समस्याओं को लेकर 30 मई को देशव्यापी बंद का आयोजन किया। अपनी समस्याओं के समाधान के लिए पहले ही भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी, स्वास्थ्य मंत्री भारत सरकार श्री जगत प्रकाश नड्डा जी, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह व स्वास्थ्य मंत्री पंजाब सरकार श्री ब्रह्म मोहिन्द्र को ज्ञापन दे चुके हैं।
पंजाब कैमिस्ट एसोसिएशन के महासचिव श्री सुरेन्द्र दुगगल ने अमृतसर के सांसद स. गुरजीत आहूजा, नवजोत सिंह सिद्धू, ओ पी सोनी, सुनील दत्ती बोलारिया जी तथा सभी विधायकों को उनके नाम के साथ कैमिस्टों को आ रही समस्याओं को लेकर एक ज्ञापन दिया तथा कुछ मुख्य मुद्दों पर प्रकाश डाला गया जिनमें पंजाब पुलिस हस्तक्षेप और जांच स्वीकार नहीं की जाएगी, ऑनलाइन फार्मेसी केंद्रीय ई-पोर्टल स्वीकार नहीं किया जाएगा, देश में दवा की ई-पोर्टल उपलब्धता एक बड़ा सवाल है, नए डीपीसीओ के तहत व्यापार मार्जिन पर प्रभाव स्वीकार्य नहीं होगा, 8.5 लाख दवा विक्रेता तथा उन पर निर्भर लगभग 50 लाख लोगों की आजीविका खतरें में पड़ जाएगी, केंद्रीय औषध अधिनियम संशोधन हमारे विचारों को सुना जाए जैसे मुख्य मुद्दे शामिल हैं।
पीसीए महासचिव सुरेन्द्र दुगगल ने कहा कि कैमिस्टों को आ रही उपरोक्त समस्याओं व तथ्यों को ध्यान में रखते हुए, हम सरकार से विनम्र अनुरोध करते हैं कि ऐसे नियमों को लागू ना किया जाए जो देश भर व पंजाब के कैमिस्टों के लिए असहनीय हों। इसके अलावा ई-फार्मेसीस के बारे में हमारे सुझावों को कृपया लिया जाए।