कैमिस्ट ने बेची एक्सपायरी दवा, मरीज की बिगड़ी हालत

DJL¸F`³F´F¼SXe : IYÀ¶FF I¼YÀF¸FSF ¸FZÔ ¸FZdOIY»F ÀMXFZS ÀFÔ¨FF»FIY õFSF ¶FZ¨Fe ¦FBÊ E¢ÀF´FF¹FS OZMX IYe ¶F¼£FFS IYe Q½FFÜ ªFZE³FE³F

कुसमरा, मैनपुरी (उत्तर प्रदेश )। कस्बे में मेडिकल स्टोर पर एक्सपायरी डेट की दवाएं बेचने का मामला सामने आया है। एक दुकान से खरीदी गई दवा खाने के बाद युवक की हालत बिगड़ गई। इसकी शिकायत दुकानदार से की तो वह संबंधित दवा के रेपर छिपाने में जुट गया। शिकायत के बाद भी औषधि प्रशासन विभाग द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई। इसके बाद पीडि़त ने जिलाधिकारी से शिकायत करते हुए कार्रवाई की मांग की है।
थाना क्षेत्र के गांव नगला तारा निवासी मनीष तिवारी (23) को दो दिनों से बुखार आ रहा था। कस्बा में ही संचालित निजी क्लीनिक के चिकित्सक को दिखाया तो आइबू-सी फोर्ट टेबलेट लिख दी। युवक ने क्लीनिक के नजदीक स्थित एक मेडिकल स्टोर से संबंधित दवा खरीदी। रात एक खुराक खाने के कुछ समय बाद ही युवक की हालत बिगडऩे लगी। युवक संबंधित दवा लेकर चिकित्सक के पास पहुंचा तो उन्होंने दवा एक्सपायर होने की जानकारी देते हुए सही दवा खरीदने की सलाह दी।
इसके बाद मनीष संबंधित मेडिकल स्टोर पर पहुंचा और संचालक के समक्ष अपनी आपत्ति दर्ज कराई। इस पर दुकानदार ने रेपर अपने पास रख लिया और यह कहकर उसे टरकाने लगा कि ऐसी दवा नुकसान नहीं करती बल्कि उसका असर थोड़ा कम हो जाता है। मनीष के अनुसार, टेबलेट के रेपर पर निर्माण तिथि अक्टूबर 2017 और एक्सपायर तिथि जुलाई 2019 दर्ज थी। कस्बा के ही राकेश कुमार ने डीएम को दिए प्रार्थना पत्र में बताया है कि कस्बा में ही संचालित होने वाले एक अन्य मेडिकल स्टोर पर एक्सपायरी दवाओं के अलावा नशीली और प्रतिबंधित दवाएं व इंजेक्शनों की बिक्री की जाती है। कई बार शिकायत किए जाने के बाद भी औषधि प्रशासन विभाग द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई है। उन्होंने जिलाधिकारी से कार्रवाई की मांग की गई है। इस संबंध में औषधि निरीक्षक उर्मिला का कहना है कि उन्हें किसी प्रकार की सूचना व शिकायत नहीं दी गई है।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here