डिलिवरी करवाती महिला गिरफ्तार, नवजात का शव बरामद

जींद। स्वास्थ्य विभाग व पुलिस की टीम ने भूपेंद्र नगर कॉलोनी में अवैध रूप से डिलिवरी करवाते एक महिला को काबू किया है। महिला अपने घर में ही डिलिवरी करवा रही थी। महिला के घर के चौबारे से डिलिवरी में प्रयोग होने वाले औजार भी मिले हैं। प्रशासन की टीम को मौके से चार घंटे पहले जन्मे एक बच्चे का शव भी मिला है। प्रशासनिक कार्रवाई को देखते हुए बच्चे के माता-पिता मौके से फरार हो गए, जिन्हें बाद में पुलिस ने काबू कर लिया। महिला का इलाज नागरिक अस्पताल में चल रहा है।
नागरिक अस्पताल के पीएनडीटी टीम के प्रभारी डॉ. प्रभूदयाल के अनुसार सूचना मिली थी कि भूपेंद्र नगर में एक महिला अवैध तरीके से डिलिवरी करवा रही है। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पुलिस के साथ मौके पर दबिश दी तो यहां एक महिला मिली, जिसकी डिलिवरी की गई है। करीब चार घंटे पहले जन्मे बच्चे का भी शव मिला। इस पर जब स्वास्थ्य विभाग की टीम ने तलाशी ली तो कई अन्य औजार भी मिले। इस पर पुलिस ने भूपेंद्र नगर कॉलोनी निवासी महिला उर्मिला के खिलाफ मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी एक्ट के तहत केस दर्ज कर गिरफ्तार किया है। जानकारी अनुसार स्वास्थ्य विभाग की टीम को सूचना मिली थी कि भूपेंद्र नगर कॉलोनी में एक झोलाछाप महिला डिलिवरी का अवैध रूप से काम करती है। इस पर स्वास्थ्य विभाग ने एक टीम डॉ. प्रभुदयाल के नेतृत्व में बनाई और पुलिस को सूचना दी। इस पर पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बताए गए स्थान पर जाकर तलाशी लेने की बात कही तो महिला ने बताया कि वह किसी तरह की डिलिवरी का काम नहीं करती। इसके बावजूद जब घर की छत पर बने कमरे की तलाशी ली तो वहां पर एमपीटी कीट व डिलिवरी में प्रयोग होने वाले औजार मिले। इससे टीम को महिला पर संदेह ज्यादा बढ़ गया और तलाशी अभियान जारी रखा। इस दौरान घर के बैड और दरवाजे के बीच एक नवजात का शव कपड़े में लिपटा मिला। जब इसको खोलकर देखा गया तो इसमें तीन से चार घंटे पहले के नवजात बच्चे का शव मिला। इस पर पुलिस ने महिला को गिरफ्तार कर मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने आस पड़ोस में महिला द्वारा की जा रही डिलिवरी के बारे में पूछा तो इस पर टीम को जानकारी मिली कि यहां पर यह कार्य लंबे समय से चल रहा है। डिलिवरी करने वाली महिला के पास किसी भी प्रकार की डॉक्टरी से संबंधित जानकारी नहीं है। यह काम अवैध रूप से किया जाता है। अभी इसकी जांच की जा रही है।
पीएनडीटी के नोडल अधिकारी डॉ. प्रभुदयाल ने बताया कि पुलिस ने नवजात बच्चे के शव के बारे में पता किया तो महिला ने बताया कि उसके पास बुढ़ा बाबा बस्ती से पूजा डिलिवरी करवाने के लिए आई थी। पुलिस टीम को देखकर दंपती भी छुप गए। इसमें महिला की हालात ज्यादा खराब होने के कारण बाद में शहर के एक दूसरे अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here