कोविड वैक्सीन के लिए दूसरे देशों को करना पड़ सकता है इंतजार, अदार पूनावाला ने की अपील

पुणे। दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता फर्म सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने रविवार को कोविड वैक्सीन का इंतजार कर रहे देशों से धैर्य रखने की अपील की है। गौरतलब है कि सीरम इंस्टीट्यूट में निर्मित कोविशील्ड वैक्सीन को दुनिया भर के देश जल्द से जल्द चाहते हैं। इसके लिए भारत सरकार के साथ ही सीरम इंस्टीट्यूट के साथ इन देशों के प्रतिनिधि लगातार बात कर रहे हैं ताकि उन्हें वैक्सीन पहले मिल सके और वायरस के खिलाफ लड़ाई में मदद मिल सके।

यही वजह है कि सीरम के सीईओ अदार पूनावाला को खुद इन देशों से धैर्य रखने की अपील करनी पड़ी है। बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और ब्रिटिश-स्वीडिश फार्मा कंपनी एस्ट्राजेनेका के साथ मिलकर कोविशील्ड वैक्सीन का निर्माण कर रही है। इस वैक्सीन को भारत में टीकाकरण में इस्तेमाल किया जा रहा है। साथ ही भारत सरकार से अनुमति मिलने के बाद दुनिया के कई देशों में इसकी सप्लाई की जा रही है जिसके चलते संयुक्त राष्ट्र संघ ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भारत की भूमिका की तारीफ की है। दरअसल भारत पहले से ही कई देशों में कोरोनोवायरस के टीके निर्यात कर रहा है।

प्रधानमंत्री ने पिछले महीने ही मन की बात कार्यक्रम में कहा था “हमारा देश इस संकट के समय दूसरों की मदद करने में सक्षम रहा है क्योंकि हम एक आत्मनिर्भर राष्ट्र हैं।” इस महीने की शुरुआत में पीएम मोदी ने कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो के साथ बातचीत में उन्हें कोविड वैक्सीन को लेकर मदद का आश्वासन दिया था। बता दें कि रविवार को एक ट्वीट में अदार पूनावाला ने लिखा “प्रिय देश और उनकी सरकारें, जैसा कि आप सभी कोविशील्ड की आपूर्ति का इंतजार कर रहे हैं, मैं विनम्रतापूर्वक आपसे अपील करता हूं कि कृपया धैर्य रखें।

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को भारत की विशाल आवश्यकताओं को प्राथमिकता देने के लिए निर्देशित किया गया है और इसके साथ ही शेष विश्व की जरूरतों को पूरा करने में संतुलन स्थापित करना है। हम अपना सर्वश्रेष्ठ दे रहे हैं।”कोविशील्ड उन दो वैक्सीन में है जिसे भारत की औषधि नियामक संस्था ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने पिछले साल आपात उपयोग की अनुमति दी थी। दूसरी वैक्सीन जिसे अनुमति मिली है वह हैदराबाद स्थित फर्म भारत बॉयोटेक की कोवैक्सीन है।