पर्क फार्मास्युटिकल सील, पुलिस की दबिश, दवा कंपनी मालिक परिवार संग फरार

मेरठ। दवा कंपनी पर्क फार्मास्युटिकल में  मेरठ के परतापुर थानाक्षेत्र में नशीली दवाइयों को पंजाब में सप्लाई के मामले में चार आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। फर्म मालिक मौके से फरार हो गया। आरोपियों को साथ लेकर कारोबार में शामिल अन्य लोगों की तलाश में गाजियाबाद और दिल्ली में भी छापा मारा गया, लेकिन कामयाबी नहीं मिली। पुलिस ने 43 लाख रुपये कीमत की दवाइयां बरामद की है। बता दें कि पंजाब में प्रतिबंधित दवाओं की सप्लाई देने वाली दवा कंपनी पर्क फार्मास्युटिकल के मालिक, संचालक और एकाउंटेंट अभी पुलिस पकड़ से दूर हैं।

पंजाब पुलिस की टीम ने मेरठ पहुंचकर कंपनी के मालिक कृष्णा केले के घर पर दबिश दी। घर पर ताला लगा हुआ था। घटना के बाद ही कृष्णा घर पर ताला डालकर परिवार के साथ फरार हो गया था। यहां से पंजाब पुलिस की टीम दिल्ली में अमरजीत की धरपकड़ के लिए रवाना हो गई। एसीपी वरियाम सिंह ने बताया कि कृष्णा केले पर्क फार्मास्युटिकल और एएसके फार्मास्युटिकल दो कंपनी चला रहा था। एएसके फार्मा भी कृष्णा केले के स्वजन के नाम रजिस्टर्ड है। ऐसे में एएसके फार्मा कंपनी का रजिस्ट्रेशन जिसके नाम है, उसे भी आरोपित बनाया जाएगा। पंजाब पुलिस का कहना है कि कृष्णा केले और अमरजीत की गिरफ्तारी के बाद काफी बातें साफ हो जाएंगी।

दरअसल 17 मार्च को लुधियाना पुलिस ने पंजाब में सप्लाई हो रही प्रतिबंधित दवाएं बनाने वाली कंपनी पर्क फार्मास्युटिकल में छापा मारा। कंपनी और गोदाम से करीब 54 करोड़ की दवाएं और चार आरोपित काशी के छुट्टन गोयल, खैरनगर के सादिक उर्फ बबलू, जान सैफी व इमलियान के फरजान को गिरफ्तार कर अपने साथ ले गई थी। सभी आरोपित पंजाब में पिछले कई सालों से प्रतिबंधित दवाओं की सप्लाई दे रहे थे। कंपनी स्वामी कृष्णा केले, संचालक अमरजीत सिद्धू और एकाउंटेंट अब्बास को भी लुधियाना पुलिस ने मुकदमे में आरोपित बना दिया था। मंगलवार को लुधियाना सेंट्रल के एसीपी वरियाम सिंह टीम के साथ दोबारा से मेरठ पहुंचे। उन्होंने कृष्णा केले की धरपकड़ को बेगमबाग में उसके घर पर दबिश डाली।

कंपनी से प्रतिबंधित दवाएं पकड़े जाने के बाद कृष्णा परिवार के साथ घर पर ताला लगाकर फरार हो गया। पंजाब पुलिस ने उसके घर पर एक नोटिस भी चस्पा कर दिया है। इसमें लिखा है कि कृष्णा केले खुद को पंजाब पुलिस के हवाले कर दे। इसके बाद पंजाब पुलिस की टीम कंपनी को संचालित कर रहे दिल्ली के अमरजीत की धरपकड़ को दिल्ली रवाना हो गई। बताया जाता है कि घटना का पर्दाफाश होने के बाद ही अमरजीत कनाडा भाग गया था। पंजाब पुलिस ने एयरपोर्ट पर लुकआउट नोटिस भी जारी करा दिया है। ताकि विदेश से लौटने के बाद अमरजीत को समय रहते पकड़ा जा सके।