‘हे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देखिए, हिंदुस्तान में नर्सों के सम्मान से खेला जा रहा है’

नई दिल्ली: जिस देश में प्रधानमंत्री सार्वजनिक मंचों से झोली फैलाकर बेटियों की भीख मांगे, उन्हें पढ़ाने-आगे बढ़ाने का संकल्प ले, उसी देश में महिलाओं को सस्ते मनोरंजन के नाम पर अपमानित किया जा रहा है और प्रधानमंत्री तथा उनकी सरकार मौन हैं, क्यों? इस सवाल का जवाब मांगने  ‘नारी (नर्स) का अपमान, नहीं सहेगा हिंदुस्तान’ – ‘नर्स पर फेंका पानी, कपिल की शुरू परेशानी’  स्लोगन लिखी पट्टियां लेकर ऑल इंडिया गवर्नमेंट नर्स फेडरेशन जंतर-मंतर पहुंची। राजधानी से बुलंद आवाज में संदेश दिया गया कि इस पवित्र पेशे को लोकप्रियता का साधन बनाने वाले अभिनेता हो नेता, बर्दाश्त नहीं करेंगे। मान-सम्मान के लिए सडक़ उतरी नर्स फेडरेशन को देश भर में समर्थन मिला। फेडरेशन की महासचिव जी.के. खुराना के नेतृत्व में देश भर में 12 से दो बजे तक नर्सों ने विरोध-प्रदर्शन कर एकता का परिचय दिया।

दिल्ली नर्स फेडरेशन की अध्यक्ष प्रेम रोज सूरी ने न केवल कपिल शर्मा, बल्कि राज्यसभा सांसद एवं भाजपा नेता नवजोत सिंह सिद्धू, अभिनेता अक्षय कुमार के प्रति भी गुस्सा जाहिर किया कि जब नर्सों की छवि को सोनी चैनल पर कपिल शो के नाम पर अपमानित कर रहे थे, तो इन जिम्मेदार लोगों ने गैर जिम्मेदाराना रवैया अपनाते हुए खूब ठहाके लगाए। फेडरेशन ने स्वास्थ्य तथा सूचना प्रसारण मंत्रालय से मांग की कि शीघ्र हस्तक्षेप कर नर्सों को लोकप्रियता के लिए मनोरंजन का साधन बनाने वाले तीनों कलाकारों को सार्वजनिक माफी मांगने को बाध्य करे। ऐसा नहीं हुआ तो फेडरेशन नारियों के विभिन्न संगठनों को साथ लेकर देशव्यापी उग्र आंदोलन की रणनीति बनाने को मजबूर होगी।
ध्यान रहे कि कॉमेडिएन कपिल शर्मा ने 7, 8 और 15 मई के एपिशोड में नर्स के चरित्र को आइटम गर्ल सरीखे प्रस्तुत किया। शो में नर्स का रोल कर रही अदाकारा के साथ कपिल ने भद्दी हरकतें की और चेहरे पर पानी फेंका। तब से देशभर में नर्सों का गुस्सा उबाल पर है।