प्रतिबंधित दवाइयों की सप्लाई के मामले में जांच, दवा मार्केट के आठ दुकानदार फरार , एक गिरफ्तार

अमृतसर। हिमाचल प्रदेश स्थित पावंटा साहिब की फैक्ट्री से 15 करोड़ की पकड़ी गई प्रतिबंधित ट्रामाडोल के बाद अमृतसर देहाती पुलिस ने कटरा शेर सिंह की दवा मार्केट पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। पुलिस ने सन्नी नाम के एक कारोबारी को गिरफ्तार किया है। आरोपित के संबंध पावंटा साहिब में चल रही दवा फैक्ट्री के मालिक मुनीष मोहन और दिल्ली निवासी प्रेम झा के साथ थे। जांच में सामने आया है कि सन्नी पिछले कई साल से अमृतसर में नशीली दवाओं का कारोबार कर रहा है।

पुलिस ने उसे कोर्ट में पेश कर रिमांड हासिल किया है। सन्नी ने पुलिस हिरासत में कई नाम बताए हैं। इसके बाद दवा मार्केट के कई बड़े कारोबारी अंडरग्राउंड हो चुके हैं। बताया जा रहा है कि आठ कारोबारी न तो रात में घर जा रहे हैं और न ही अपने कारोबार में देखे जा रहे हैं। पुलिस नशीली दवाओं की और खेप व गिरफ्तारियों के लिए कई दवा कारोबारियों का खाका खंगाल रही है। यही नहीं उनकी मोबाइल काल और उनकी डिटेल्स पर भी नजर रखी जा रही है। हिमाचल के नेता को हिरासत में लेने की खबर

मत्तेवाल थाने की पुलिस ने हिमाचल प्रदेश से एक आरोपित को हिरासत में लिया है। पता चला है कि पकड़ा गया आरोपित हिमाचल प्रदेश की सत्ता में भी काफी पैठ रखता है। फिलहाल पुलिस संदिग्ध से पूछताछ कर रही है। उसने कई राज उगले हैं और आने वाले दिन में पुलिस उसकी गिरफ्तारी डाल सकती है। यह है मामला

मत्तेवाल थाने की पुलिस ने पचास हजार नशीली गोलियां के साथ तीन तस्करों को काबू किया था। उनकी पूछताछ के बाद पुलिस ने हिमाचल प्रदेश में छापामारी की। मुनीष मोहन को काबू कर उसकी फैक्ट्री से 15 करोड़ की नशीली दवाएं बरामद की थी। जांच में सामने आया था कि आरोपित मुनीष फर्जी फैक्ट्रियों को भारी संख्या में नशीली दवाएं डिलीवर कर रहा था। इसके बाद पुलिस दिल्ली निवासी प्रेम झा को काबू करने पहुंची। लेकिन हरियाणा पुलिस उसे पहले ही काबू कर चुकी थी। बता दें इस मामले में पुलिस हिमाचल, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश और पंजाब के दो दर्जन से ज्यादा लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर चुकी है। अब पुलिस ने दवा मार्केट में शिकंजा कसना शुरू कर दिया है।