अस्पताल में मंडरा रहा दवा का संकट, दवा सप्लाई का पोर्टल हुआ बंद

फीरोजाबाद। मेडिकल कालेज अस्पताल में पिछले 18 दिन से एंटी रैबीज वैक्सीन (एआरवी) समेत अन्य दवाएं भी आउट आफ स्टाक हो रही हैं। इसके पीछे की वजह उप्र मेडिकल कारपोरेशन के ड्रग वेयर हाउस का पोर्टल बंद होना बताया जा रहा है। पोर्टल नहीं खुलने की स्थिति में आने वाले दिनों में दवाओं का संकट पैदा हो सकता है। सीएमएस डा. हंसराज ने बताया कि अस्पताल में अभी दवाओं का संकट नहीं है। जरूरत पड़ने पर दवाई लोकल स्तर पर खरीद की जाती है। इन दिनों सिर्फ एंटी रैबीज वैक्सीन की अस्पताल में दिक्कत है। बाकी दवाएं उपलब्ध है। आगे भी दवाईयों की दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। – 350 प्रकार की दवाइयों की सप्लाई करता है कारपोरेशन

अस्पताल में पहले दवाओं की आपूर्ति उप्र मेडिकल कार्पोरेशन के ड्रग वेयर हाउस से की जाती रही है। अस्पताल में जिन दवाओं की जरूरत होती थी, उसकी आनलाइन डिमांड कारपोरेशन के पोर्टल पर कर दी जाती थी। लेकिन अप्रैल से कारपोरेशन का पोर्टल स्वशासी राजकीय मेडिकल कालेज अस्पताल में नहीं खुल रहा है। इसकी वजह जिला अस्पताल का इस मेडिकल कालेज में समाहित किया जाना है। इस कारण से अस्पताल में एआरवी 18 जून से उपलब्ध नहीं है। इसकी मैनुअली डिमांड भेजी गई, लेकिन सप्लाई नहीं मिल रही है। यदि पोर्टल नहीं खुला तो आने वाले दिनों में दवाओं का संकट पैदा हो सकता है। उप्र मेडिकल कारपोरेशन के ड्रग वेयर हाउस से सरकारी अस्पतालों में लगभग 350 प्रकार की दवाइयों की सप्लाई की जाती है। पोर्टल नहीं खुलने से ये दवाएं नहीं मिल पा रही हैं। जानकारों की मानें तो अभी अस्पताल के ड्रग स्टोर में एक माह के लिए दवाएं उपलब्ध है।