कोरोना की थर्ड वेव की आशंका: दवाओं के स्टॉक के साथ ही इक्युपमेंट्स मैनेज करने में जुटा हेल्थ डिपार्टमेंट

देहरादून। कोरोना की थर्ड वेव की आशंका को देखते हुए हेल्थ डिपार्टमेंट दवाओं के स्टॉक के साथ ही इक्युपमेंट्स मैनेज करने में जुटा है। मेडिसिन मैन्युफेक्चरर्स कंपनियों को बच्चों के लिए स्पेशल स्टॉक मेंटेन करने के लिए कहा गया है। दून हॉस्पिटल व प्राइवेट मेडिकल स्टोर्स में भी दवा व जरूरी इक्युपमेंट्स का स्टॉक रखने के निर्देश दिए गये हैं। केवल पैरासिटामोल (पीसीएम) की ही 12 लाख से ज्यादा टैबलेट्स स्टोर की गई हैं।

डिस्ट्रिक्ट ड्रग इंस्पेक्टर- नीरज दिवाकर ने बताया कि बच्चों के लिए पैरासिटामोल के सस्पेंशन से लेकर जिंक व विटामिन सी की दवा का स्टॉक पर्याप्त है। इसके साथ ही दवा मैन्युफैक्चरर्स को दवाओं का प्रोडक्शन बढ़ाने व हर समय स्टॉक मेंटेन करने के निर्देश दिए गये हैं। सीएमडी डेफोहील लेबोरेटरीज- आईपीएस चावला के मुताबिक दवा की मैन्युफेक्चरिंग को बढ़ाया गया है। आवश्यकता पड़ने पर देहरादून समेत प्रदेश और अन्य राज्यों में दवा व इक्युपमेंट्स की सप्लाई संभव हो सकेगी।

अब इसी कड़ी में हम आपको बता देते है कि तीसरी लहर को लेकर क्या -क्या तैयारियां की गई है। बता दें कि बच्चों समेत सभी उम्र के व्यक्ति के लिए दवा सहित मेडिकल इक्युपमेंट समेत सभी तैयारी कर ली गई है। दरअसल दून में बच्चों के लिए आईसीयू बेड की क्षमता बढ़ाकर 550 बेड कर दी है। इतना ही नहीं ऑक्सीजन बेड की क्षमता भी 1500 से ज्यादा हो गई है। साथ ही 3 सरकारी हॉस्पिटल में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगा दिए गए हैं। सभी सीएचसी पीएचसी सेंटर्स में ऑक्सीजन सिलेंडर भी बढ़ाए गए हैं।

कोरोना संक्रमण काल मार्च 2020 से अब तक दून में 30 लाख 27 हजार से ज्यादा पैरासिटामोल की खपत हुई। यह दवा किसी भी कोरोना सस्पेक्टेड से लेकर कोरोना संक्रमित पेशेंट्स को दी गई। प्राइवेट मेडिकल स्टोर्स से 15 लाख व 15 लाख 27 हजार से ज्यादा सरकारी हॉस्पिटल में पैरासिटामोल की खपत हुई। अभी भी हेल्थ डिपार्टमेंट के पास 12 लाख 60 हजार पैरासिटामोल का कोटा मौजूद है। वहीं, बच्चों के लिए 45800 से ज्यादा ओरल सस्पेंशन स्टॉक में हैं। सेलाकुई स्थित दवा मैन्युफेक्चरर कंपनी ने मेडिसिन प्रोडक्शन को बढ़ा दिया है। डेफोहील लेबोरेटरीज के संचालक आईपीएस चावला ने बताया कि पैरासिटामोल के उत्पादन के साथ ही विटामिट सी व जिंक का भी प्रोडक्शन बढ़ाया गया है। दून समेत पूरे उत्तराखंड में सप्लाई के साथ बाहरी राज्यों में भी सप्लाई के लिए पर्याप्त स्टॉक मौजूद रहेगा।

हेल्थ डिपार्टमेंट के पास ये स्टॉक

पैरासिटामोल – 12,60,000

आइवरमेक्टिन – 5,44,440

एजिथ्रोमाइसिन – 5,7000

विटामिन सी – 7,50,300

पैरासिटामोल सस्पेंशन – 4,58,000

सभी जगह है स्टॉक

दून होलसेल कैमिस्ट एसोसिएशन के अनुसार सरकारी स्टोर से लेकर प्राइवेट कैमिस्ट के पास स्टॉक मौजूद है। इन दिनों करीब 12 लाख 60 हजार से ज्यादा केवल पैरासिटामोल दून में मौजूद हैं। सर्वे में पता चला कि मौजूदा स्थिति में ही एक डिस्ट्रीब्यूटर के पास 55 हजार से ज्यादा पैरासिटामोल का स्टॉक है।