मलेरिया मुक्ति की राह पर 21 देश

डब्लयूएचओ की रिपोर्ट से जागी आशा
नई दिल्ली

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2020 तक 21 देश मलेरिया मुक्ति का सपना देख सकते हैं। डब्ल्यूएचओ ने 2016-2030 के कार्यक्रमों की रूपरेखा के मुताबिक, एक लक्ष्य कम से कम 10 देशों से इस बीमारी को खत्म करना है। इन देशों में अफ्रीका के छह देश और भारत के चार पड़ोसी देश भूटान, चीन, नेपाल और मलेशिया को भी शामिल किया है।
डब्ल्यूएचओ ने विस्तार से बताते हुए कहा कि इस लक्ष्य को हासिल करने का मतलब है कि किसी देश में वर्ष 2020 से पहले कम से कम एक साल तक इसका कोई भी मामला नहीं मिलना चाहिए। इस लक्ष्य में अफ्रीका के छह देशों सहित 21 देशों को शामिल किया गया है। क्योंकि डब्लूएचओ के अनुसार इन देशों पर इस बीमारी का सबसे अधिक बोझ है।
डब्ल्यूएचओ के वैश्विक मलेरिया कार्यक्रम के निदेशक प्रेडो अलोंसो ने कहा, हमारी रिपोर्ट उन देशों को दर्शाती है जो मलेरिया उन्मूलन के रास्ते पर सही ढंग से बढ़ रहे हैं। अफ्रीका में मलेरिया अधिक तैजी से फैलता है जिस कारण यहां तत्काल अधिक निवेश करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जीवन बचाना हर हाल में हमारी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए।