मेडिकल प्रवेश के लिए कॉमन टेस्ट शीघ्र

नई दिल्ली

देश के सभी निजी और सरकारी मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस और बीडीएस पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए एकल परीक्षा यानी नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंटरेंस टेस्ट (नीट) इसी वर्ष से लागू होगी। सीबीएसई और एमसीआई ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि वो इसी वर्ष से एमबीबीएस और बीडीएस में प्रवेश के लिए नीट परीक्षा कराने को तैयार हैं। सुप्रीम कोर्ट ने दोनों से परीक्षा का प्रस्तावित श्ेाड्यूल कोर्ट में पेश करने को कहा है।
गैर सरकारी संगठन संकल्प चैरिटेबल ट्रस्ट की ओर से दाखिल याचिका पर सुनवाई के दौरान सीबीएसई और एमसीआई ने सुप्रीम कोर्ट को यह जानकारी दी। ट्रस्ट ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर इसी वर्ष से नीट परीक्षा कराने का आदेश मांगा है। मामले की सुनवाई न्यायमूर्ति एआर दवे की अध्यक्षता वाली पीठ कर रही है। फिलहाल आल इंडिया कोटे की 15 फीसदी सीटों को भरने के लिए एआइपीएमटी परीक्षा होती है।
मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं को लेकर न्यायालय ने सख्ती बरतने को कहा है, क्योंकि पिछली परीक्षाओं में इस परीक्षा की गोपनीयता और व्यवस्था को दलालों ने तार-तार कर दिया था। हरियाणा के रोहतक में एआईपीएमटी परीक्षा लीक करवाने वाले बड़े गिरोह का खुलासा हुआ था।