रिश्वत का आरोपी ड्रग कंट्रोलर सुरेश चौधरी सस्पेंड, अभी पुलिस नहीं कर पाई गिरफ्तार

हिसार। रिश्वत मामले में फंसे ड्रग कंट्रोलर सुरेश चौधरी को सस्पेंड कर दिया गया है। उनके निलंबन के आदेश अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा द्वारा जारी किए गए हैं। चौधरी की जगह फतेहाबाद के ड्रग कंट्रोलर अमनदीप को हिसार का चार्ज दिया गया है।

जानकारी के अनुसार केमिस्ट शॉप संचालक से 40 हजार की रिश्वत मांगने के मामले में फंसे आरोपी ड्रग कंट्रोलर सुरेश चौधरी को विभाग ने सस्पेंड कर दिया है। ड्रग कंट्रोलर पर स्टेट विजिलेंस द्वारा 6 अगस्त को रिश्वत का केस दर्ज किए जाने के बाद आरोपी अफसर को निलंबित कर दिया गया है। इस बारे में अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा ने वीरवार को आदेश जारी किए हैं।

सुरेश चौधरी के खिलाफ 6 अगस्त को स्टेट विजिलेंस ने रिश्वत मांगने का केस दर्ज किया था। 13 दिन बीत जाने के बाद भी स्टेट विजीलेंस टीम आरोपी सुरेश चौधरी को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। सुरेश चौधरी को सस्पेंड किए जाने के बाद फतेहाबाद के ड्रग कंट्रोलर अमनदीप चौहान को हिसार का अतिरिक्त चार्ज दिया गया है।

मामले में रामायण गांव के निवासी रामबिलास ने स्टेट विजिलेंस को शिकायत दी थी। रामबिलास के अनुसार उसे केमिस्ट शॉप संचालक का लाइसेंस देने की एवज में 40 हजार की रिश्वत मांगी जा रही है। यह रिश्वत ड्रग कंट्रोलर सुरेश चौधरी के कहने पर उसे ड्राइवर रामपाल व पीयन सुमित द्वारा मांगी जा रही है। स्टेट विजिलेंस टीम ने ड्रग कंट्रोलर के ड्राइवर रामपाल व चपरासी सुमित को 40 हजार की रिश्वत लेते काबू कर लिया था। जबकि आरोपी ड्रग कंट्रोलर सुरेश चौधरी वहां से फरार हो गया था।