झारखंड: डेढ़ हजार दवा दुकानों में लटके ताला

रांची

ड्रग कंट्रोल डिपार्टमेंट ने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन सिस्टम लागू करने की तैयारी पूरी कर ली है। अप्रैल से यह सिस्टम लागू हो जाएगा। इसके बाद ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन से ही दवा दुकानों के लाइसेंस मिलेंगे। इससे बिना लाइसेंस वाले चल रहे मेडिकल स्टोर पर रोक लग जाएगी। इस प्रक्रिया में रांची की लगभग डेढ़ हजार दवा दुकानों में ताला लगने की संभावना है। क्योंकि ये डेढ़ हजार दवा दुकानें बिना लाइसेंस की हैं।
एक फार्मासिस्ट, एक लाइसेंस-फार्मासिस्ट को ग्रीन कार्ड देने की प्रक्रिया पहले ही शुरू की जा चुकी है। इसके तहत एक कार्ड पर कई दुकानों में दवा की बिक्री की जा रही थी। लेकिन अब एक फार्मासिस्ट के ग्रीन कार्ड पर एक ही दवा दुकान की लाइसेंस मिलेगी। ऐसे में एक कार्ड पर दो दुकानों का रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाएगा। वहीं, अगर कोई फार्मासिस्ट अपने कार्ड से दो दुकानों का रजिस्ट्रेशन कराता है, तो उसका लाइसेंस कैंसिल कर दिया जाएगा।
आनलाइन रजिस्ट्रेशन सिस्टम लागू होने से दवा दुकानों की जानकारी भी आनलाइन हो जाएगी। साथ ही यह भी पता लगाया जा सकेगा कि किस दवा दुकान का रजिस्ट्रेशन नहीं है। आनलाइन होने के कारण कोई भी व्यक्ति ड्रग कंट्रोल डिपार्टमेंट की साइट पर जाकर चेक कर सकेगा कि उसके एरिया में किस दवा दुकान का रजिस्ट्रेशन नहीं है। इसकी सूचना विभाग को फोन कर दे सकते हैं। औषधि विभाग के संयुक्त निदेशक के मुताबिक, आनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए कागजी प्रक्रियाएं पूरी हो चुकी है। इससे बिना लाइसेंस के चल रही दुकानों पर रोक लगाने में मदद मिलेगी। अब कोई फार्मासिस्ट दो दुकानों के लिए आवेदन देगा तो आनलाइन इसकी जानकारी मिल जाएगी। इसके बाद उसका ग्रीन कार्ड कैंसिल कर दिया जाएगा।
नई प्रक्रिया: दवा दुकानों के लाइसेंस-दवा दुकान खोलने के लिए लोगों को अब आनलाइन आवेदन देना होगा। इसके लिए फार्मासिस्ट को जारी किए गए ग्रीन कार्ड के साथ आवेदन करना होगा। जांच के बाद विभाग दवा दुकान को लाइसेंस जारी कर देगा। इससे राजधानी की सभी रजिस्टर्ड दवा दुकानों की आनलाइन जानकारी मिल सकेगी।