लाखों रुपए की दवा सड़ रही अस्पताल के टॉयलेट में , प्रशासन बेपरवाह

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में जिला अस्पताल परिसर में स्थित होम्योपैथिक चिकित्सालय के लाखों की दवा टॉयलेट रूम में बंद करके रखी गई है। बता दें कि सरकार ने जिले में सप्लाई सत्र-2018-19 में खरीद के बाद इन दवाओं को जिला होम्योपैथी विभाग को भिजवा दिया ताकि इनका ज‍िले के अलग-अलग सरकारी होम्योपैथी अस्पतालों में वितरण कराया जा सके।

कुशीनगर। उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में जिला अस्पताल परिसर में स्थित होम्योपैथिक चिकित्सालय के लाखों की दवा टॉयलेट रूम में बंद करके रखी गई है। बता दें कि सरकार ने जिले में सप्लाई सत्र-2018-19 में खरीद के बाद इन दवाओं को जिला होम्योपैथी विभाग को भिजवा दिया ताकि इनका ज‍िले के अलग-अलग सरकारी होम्योपैथी अस्पतालों में वितरण कराया जा सके। इसके बावजूद जिम्मेदारों की लापरवाही के चलते इन दवाओं का वितरण तो दूर अस्पतालों तक इनकी सप्‍लाई तक नहीं कराई जा सकी।

दरअसल कोरोना के समय से लेकर वायरल बुखार के दौरान भी लोगों को राहत देने के लिए इसका उपयोग नहीं किया गया। विभाग के निष्क्रियता और जिम्मेदारी की अनदेखी के चलते इन दवाओं को वहां से नहीं हटाया जा रहा है और न ही इसका वितरण किया जा रहा है। जब इस मामले में जिला होम्योपैथ अधिकारी डॉ. अशोक गौड़ से बात की गई तो उन्होंने बताया कि बहुत पहले दवा आयी है। इसका बिल बाउचर हमारे पास नहीं है। यह भी नहीं पता कि उसका पेमेंट हुआ या नहीं, कहा कि उनके चार्ज लेने से पहले का यह मामला है। अब आदेश लेकर इन्हें बंटवा दिया जाएगा। उधर, जिलाधिकारी कुशीनगर एस.राज लिंगम ने मामले की जांच कराने की बात कही है।

जानकारी के अनुसार जिला होम्योपैथी अस्पताल कुशीनगर के शौचालय में गत्तों में होम्योपैथी की मदरटिंचर दवाएं सालों से भरी पड़ी हैं। इन्हें अब तक न तो बांटा गया और न ही यहां से हटाया गया। दवाओं से भरे गत्ते टॉयलेट रूम में सड़ रहे हैं। उन पर लिखी जानकारी के अनुसार ये होम्योपैथी की दवाएं उत्तर प्रदेश आयुष विभाग की ओर से गोवा की कंपनी गोवा एंटीबायोटिक और फार्मास्यूटिकल लिमिटेड से खरीद की गईं हैं, जिसकी अनुमानित कीमत लगभग 5 से 6 लाख बताई जा रही है।