चोरी के माल से बनाई जा रही दवाइयां

मंगलौर, हरिद्वार (उत्तराखंड)। क्षेत्र में स्थापित दवा निर्माता कंपनियों में चोरी किए गए कच्चे माल से दवा बनाने का पता चला है। इन कंपनियों में चोरी किया हुआ दवा का कच्चा माल सप्लाई करने जा रहे गिरोह की धरपकड़ से यह मामला उजागर हुआ। पुलिस ने करीब 15 लाख रुपए कीमत के कच्चे माल समेत एक आरोपी को गिरफ्तार किया है, जबकि उसके दो अन्य साथी मौके से फरार हो गए। आरोपी चोरी का यह माल किसी दवा कंपनी में बेचने आए थे। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

जानकारी अनुसार मंगलौर पुलिस पुराने गंगनहर के पास संदिग्ध हालत में खड़ी कार के पास पहुंची। पुलिस को आते देख कार में सवार दो युवक मौके से भाग निकले, जबकि एक युवक पकड़ में आ गया। गिरफ्तार आरोपी गाजियाबाद का अनिल कुमार पुत्र कमलेश्वर प्रसाद मूल रूप से बिहार निवासी है। पुलिस ने कार की जांच की तो उसमें दवा बनाने में काम आने वाला भारी मात्रा में कच्चा माल बरामद हुआ। आरोपी युवक ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उन्होंने यह माल दिल्ली में दवा निर्माता फैक्टरी से चोरी किया है। इस चोरी के माल को वह दवा बनाने की कंपनियों में कम दाम में सप्लाई करते हैं। आरोपी ने अपने फरार साथियों के नाम भी पुलिस को बताए है। पुलिस से मामले की जानकारी मिलने पर ड्रग इंस्पेक्टर नीरज कुमार ने बरामद किए गए माल का सैंपल लिया।

दवा निर्माता कंपनियों की जांच होगी: कस्बा पुलिस चौकी प्रभारी दीपक कठैत का कहना है कि क्षेत्र में दवा बनाने वाली कंपनियों की जांच कर पता लगाएंगे कि कहीं इन कंपनियों में तो चोरी के माल का इस्तेमाल नहीं हो रहा। यह भी पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि अब तक वह कितनी कंपनियों को माल सप्लाई कर चुके हैं।