इंदौर की दवा कंपनी पर पांच साल का प्रतिबंध

इंदौर
शहर की दवा कंपनी श्री साईनाथ को स्वास्थ्य विभाग ने पांच साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया है। यह कंपनी आगामी पांच साल तक विभाग की निविदा एवं कोटेशन की प्रक्रिया में शामिल नहीं हो पाएगी। स्वास्थ्य संचालनालय में संचालक(वित्त) डॉ. केएल साहू ने कंपनी के संदर्भ में प्रतिबंधात्मक आदेश जारी कर प्रदेश के सभी सीएमएचओ को निर्देशित किया है। उसमें कहा गया है कि कंपनी के साथ विभागीय तौर पर कोई व्यवहार न रखा जाए। यदि कोई कर्मचारी या अधिकारी ऐसा करता है तो उस पर कार्रवाई की जाएगी।

जिला अस्पताल में पूर्व सीएस डॉ. डीपी सिंह ने भी कंपनी से जिला अस्पताल के लिए लाखों रुपए की दवाएं, मशीनें, बिस्तर आदि की खरीदी की थी। हालांकि क्रय प्रक्रिया का पालन न किए जाने की वजह से यह खरीदी विवादों में आ गई। इसके चलते सामग्री के भुगतान पर रोक लगा दी गई। विभागीय ऑडिट में खरीदी प्रक्रिया को गलत ठहराया गया। इसके चलते अधिकारियों को उक्त सामग्री वापस करने के निर्देश दिए गए। सूत्रों की मानें तो उक्त सामग्री पहले फौजदार धर्मशाला में रखी थी लेकिन अब वह सामग्री वहां नहीं हैं।

सिविल सर्जन का कहना है कि सामग्री को स्टोर में रखवाया गया है। हमने कंपनी को लिख दिया है सामग्री वापस ले जाने के लिए। जब कंपनी के कर्मचारी आएंगे तो हम उन्हें सामग्री दे देंगे।