दुर्लभ सर्जरी, बुजुर्ग के घुटने से निकला खीरे के आकार के पत्थर

डॉक्टर और मरीज
डॉक्टर और मरीज

मुंबई : मुंबई के एक अस्पताल के डॉक्टरों ने अत्यंत दुर्लभ सर्जरी करते हुए एक बुजुर्ग के घुटने से खीरे के आकार के पत्थर निकाले हैं। अब बुजुर्ग आसानी से चल फिर सकेंगे और दैनिक कार्य बिना किसी परेशानी के कर सकेंगे।

यह भारत में की गई अभूतपूर्व और अत्यंत दुर्लभ सर्जरी में से एक मानी जा रही है, जिसने घुटने की दुर्लभ बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को चलने-फिरने में सक्षम बनाया है।

रोगी लक्ष्मीकांत मधेकर अमरावती का रहने वाला एक मजदूर है, जिसके घुटने में पिछले एक दशक से भी अधिक समय से सूजन थी और वह पिछले एक साल से दाहिने घुटने में तेज दर्द से पीड़ित था।

अस्पताल में भर्ती होने के बाद, डॉ. शाह ने उनका परीक्षण किया, घुटने के जोड़ की ‘मल्टीपल जाइंट सिनोवियल चोंड्रोमैटोसिस’ नामक एक अत्यंत दुर्लभ स्थिति के रूप में समस्या का निदान किया और मधेकर के लिए एक उपयुक्त उपचार योजना तैयार की।

उन्होंने बताया कि यह स्थिति 1,00,000 लोगों में से किसी एक व्यक्ति को प्रभावित करती है, जिसमें घुटने के जोड़ की आंतरिक परत चिकनाई वाले तरल पदार्थ के सामान्य स्राव के बजाय उपास्थि के नोड्यूल बनाती है।

डॉ. शाह ने कहा कि इस तरह के बड़े पैमाने पर और कई पत्थरों को घुटने की पूरी अंदरूनी परत से भारत में कहीं भी हटाने का मामला बेहद दुर्लभ है और यह घुटने से दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा पत्थर हटाने का मामला है।

Advertisement