छत्तीसगढ़:बालिकाओं के शरीर में रक्त अल्पता

रायगढ़

लड़कियों में खून की कमी को दूर करने में स्वास्थ्य महकमा पिछड़ रहा है। 9 ब्लॉकों की 62 स्कूल छात्रावासों में 3085 किशोरी का हीमोग्लोबीन टेस्ट किया गया, जिसमें 575 बालिकाओं के शरीर में खून की कमी पाई गई। ऐसे में स्वास्थ्य महकमा छात्रावास समूहों को बालिकाओं के शरीर खून की आपूर्ति के लिए हरी साग सब्जी व आयरन की गोली देने के लिए निर्देश दिए हैं। जिले के बरमकेला, सारंगढ़ पुसौर, लोईंग, तमनार, घरघोड़ा, लैलूंगा, धरमजयगढ़ व खरसिया ब्लॉक के 62 शासकीय प्री-मैट्रिक व पोस्ट मैट्रिक छात्रावासों में रहकर अध्ययन करने वाली छात्राओं के शरीर में खून की मात्रा दर्ज करने स्वास्थ्य महकमा पिछले जनवरी माह में हीमोग्लोबीन जांच शिविर का आयोजन किया था।
गौरतलब है कि जिले के 62 छात्रावासों में कुल 3085 छात्राएं रह रही हैं, जिनका हीमोग्लोबीन जांचा गया। हैरान करने वाली बात ये है कि प्रदेश सरकार द्वारा चलाए जा रहे किशोरी पूरक पोषण आहार और नियमित आयरन की गोली देने के बाद भी जांच रिपोर्ट में पाया गया कि 575 बालिकाओं की शरीर में खून की कमी थी। वहीं 289 छात्राएं ऐसी मिलीं जिन्हें तत्कालिक आयरन की गोली देना पड़ा। यानी कि 3 हजार 85 छात्राओं में 8 सौ किशोरियों के शरीर में खून की मात्रा कम थी। जिनमें से औसत से नीचे वाली छात्र समूहों को आयरन की गोली दी गई है