पीएचसी-सीएचसी पर नर्स ही काफी होंगी अब इलाज के लिए

एमबीबीएस डॉक्टरों अनिच्छा से अब प्रभावित नहीं होगा इलाज

 


Nurses

नई दिल्ली
एमबीबीएस डॉक्टरों की नियुक्ति ग्रामीण क्षेत्रों में अनिवार्य करने का मामला भले ही अटका हो, लेकिन सरकार ने गांवों में स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी पूरी करने के लिए विशेषज्ञ नर्सों का नया कैडर बनाने की तैयारी कर ली है। इसके लिए स्वास्थ्य मंत्रालय 2 न ए स्पेशल कोर्स शुरू करने जा रहा है। इनसे न सिर्फ नई और मौजूदा नर्सों को करियर में आगे बढऩे का मौका मिलेगा, वहीं ग्रामीणों को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं मिलेंगी। योजना पर तेजी से काम चल रहा है। 2 साल की अवधि वाले ये कोर्स सितंबर से शुरू होने की उम्मीद है। इनमें से ‘नर्स प्रेक्टिशनर क्रिटिकल केयर’ नाम के कोर्स को स्वास्थ्य सचिव की मंजूरी मिल चुकी है। बीएससी नर्सिंग और जीएनएम कोर्स कर चुकी नर्सें इसमें दाखिला ले सकेंगी। स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, ‘यह नया पीजी कोर्स नर्सों को स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़ी गंभीर स्थितियों में काम करने के लिए तैयार करेगा। कोर्स को भारतीय नर्सिंग काउंसिल की मंजूरी भी मिल चुकी है। यह कोर्स आईसीयू और सीसीयू के स्तर पर स्वास्थ्य सेवाओं की जरूरत पूरी करेगा, वहीं नर्सों को कॅरिअर और कमाई का नए अवसर भी देगा।’
‘नर्स प्रेक्टिशनर प्राइमरी कोर्स’ नाम के दूसरे कोर्स को भी जल्द मंजूरी मिलने की उम्मीद है। यह कोर्स नर्सों को ऐसे उप केंद्रों और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के लिए तैयार करेगा, जहां डॉक्टर उपलब्ध नहीं हैं। यह कोर्स भी बीएससी नर्सिंग और जीएनएम कर चुकी नर्सों के लिए होगा। एक अधिकारी ने कहा कि दोनों नए नर्सिंग कोर्सों के बारे में जल्द ही राज्य सरकारों को लिखा जाएगा।