परिवार नियोजन के विकल्पों में विस्तार

सरकार ने दो नए गर्भ निरोधकों की शुरूआत कर देश के लोगों को उपलब्ध परिवार नियोजन के विकल्पों में विस्तार किया है। इनमें एक गर्भ निरोधक इंजेक्शन के रूप में है और दूसरा गोली के रूप में है। ये गर्भ निरोधक वर्तमान में चिकित्सा महाविद्यालयों और जिला अस्पतालों में नि:शुल्क उपलब्ध हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने हाल ही में गर्भ निरोधकों की आपूर्ति और वितरण में सुधार लाने के लिए एक नए सॉफ्टवेयर फैमिली प्लानिंग लॉजिस्टिक्स इंफॉर्मेशन सिस्टम (एफपी-एलएमआईएस) की शुरुआत की है, जिसमें स्वास्थ्य सुविधाओं तथा गर्भ निरोधकों और आशा कार्यकर्ताओं के बारे में पूरी जानकारी दी गयी है।
अब तक 10 राज्यों, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान, कर्नाटक, हरियाणा, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, दिल्ली और गोवा में इसकी शुरुआत की गई है। एक सरकारी बयान में कहा गया है कि ये गर्भ निरोधक सुरक्षित और प्रभावी हैं। ‘अंतरा’ इंजेक्शन तीन महीनों के लिए कारगर है तथा ‘छाया’ गोली एक सप्ताह के लिए प्रभावी है। यह दंपतियों की बदलती जरूरतों को पूरा करने में मदद करेगी जिससे महिलाओं को उनकी गर्भधारण योजना में मदद मिलेगी. इन गर्भ निरोधकों की शुरूआत केन्द्रीय परिवार नियोजन पहल ‘मिशन परिवार विकास’ के तहत की गई है।