बिना बैठक बीत गए अंबाला केमिस्ट एसोसिएशन के तीन साल

अंबाला

जिला अंबाला केमिस्ट एसोसिएशन का कार्यकाल 21/1/2016 को पूरा हो गया 21/1/2013 को हुए चुनावों में केश्व सैनी जिला अध्यक्ष (औषधि निर्माता) प्रदीप गुप्ता (सी.एंड.एफ. राज्य औषधि वितरक) महासचिव बने। दोनों ने अपने कार्यों की व्यस्तता के चलते जिला स्तरीय चुनाव तो येन केन प्रकारेण जीत लिए। परंतु कार्यकाल अवधि समाप्त होने के बाद तक भी जिला केमिस्ट एसोसिएशन के बैनर के नीचे एक भी इ.सी. बाडी या जनरल बाडी मीटिंग नहीं बुलाई।
इस के लिए अंबाला शहर, कैंट, नारायणगढ़, मुलाना, बराड़ा क्षेत्र के वरिष्ठ पदाधिकारियों केमिस्ट नेताओं ने बताया कि गत 3 वर्षों में जिला संगठन की कोई भी इ.सी. या जनरल बाडी मीटिंग नहीं हुई। जिला महासचिव से संपर्क किया तो उन्होंने जिला अध्यक्ष से जानकारी के बारे में कहा। जिला अध्यक्ष ने बताया कि कौन कहता है कि मीटिंग नहीं हुई। समय-समय पर बैठकेंं हुई हैं। कोई न आए किसी को संदेश न मिला हो तो उनकी गल्ती नहीं। बैठकों में कौन-कौन था क्या मुद्दे चर्चित रहे के बारे में कहा कि जहा 20-20 सालों से चुनाव नहीं हुआ, वहां करवाओ, पहले राज्य के चुनाव करवाओ।

शायद जिला अध्यक्ष को राज्य से संविधान की जानकारी नहीं कि राज्य चुनाव से पूर्व जिलों के चुनाव जरूरी होते हैं और जहां जिस जिले में कोई विवाद नहीं वहां सर्वसम्मति से बिना चुनाव के ही टीम को आगामी पारी की जिम्मेदारी सौंप दी जाती है। यदि कोई विवाद सामने आता है तो मेन-टू-मेन चुनाव करवाए ही जाते हैं। जिला अध्यक्ष एक दवा निर्माता है उन्हें संविधान की बारीकियों से क्या लेना-देना। राष्ट्रीय बैठकों में जाना नहीं भूलते। क्यों वायु मार्ग व वी.आई.पी. गिफ्ट जो लेते होते हैं, संगठन के सदस्यों का भविष्य की चिंता नहीं।