आंख के मरीजों को दे दी गई कैंसर की दवा!

अहमदाबाद
अहमदाबाद में 15 लोगों की आंखों की रोशनी चले जाने के मामले में संबंधित ड्रग निर्माता कंपनी ने कहा है कि अवैस्टिन ड्रग कैंसर के उपचार में प्रयुक्त किया जाता है लेकिन हॉस्पिटल ने इसका प्रयोग आंख संबंधी बीमारियों के इलाज में किया। हादसे की जिम्मेदारी ड्रग निर्माता कंपनी पर डालते हुए स्थानीय निकाय प्रशासन ने कहा था कि अस्पताल की इसमें चूक नहीं थी बल्कि इंजेक्शन में प्रयुक्त अवैस्टिन ड्रग की वजह से लोगों की आंख की रोशनी गई। अहमदाबाद स्थानीय निकाय ने ड्रग में खामी होने का दावा करने के बावजूद ड्रग निर्माता कंपनी को अभी तक इस संबंध में कोई नोटिस नहीं भेजा है।

अहमदाबाद के स्थानीय निकाय द्वारा संचालित नागरी आई हॉस्पिटल में 15 मरीज अपनी एक आंख के दर्द से परेशान होकर चेकअप के लिए अस्पताल आए थे। डॉक्टरों ने अवैस्टिन (Avastin) इंजेक्शन का एक शॉट उनकी आंख में लगाकर पट्टी बांधने के बाद घर भेज दिया था। उन्हें करीब पांच घंटे बाद पट्टी हटाने और कुछ मेडिकल ड्रॉप लगाने को कहा गया था। लेकिन पट्टी हटते ही सभी 15 मरीजों की आंख की रोशनी चली गई थी।
सरकारी अस्पताल के मुख्य चिकित्सक अधिकारी ने कहा कि इस ड्रग का इस्तेमाल आंखों की दवा के तौर पर भी किया जाता है।