एंटीबायोटिक में लगेगी आग, कैंसर की दवाएं होंगी सस्ती

मुरादाबाद

वायरल संक्रमण में खूब धड़ल्ले से बिकने वाली एंटीबायोटिक दवाएं महंगी होने जा रही हैं वहीं, कैंसर के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाएं सस्ती होंगी। ऐसा केंद्र सरकार द्वारा कई दवाओं को ड्रग प्राइज कंट्रोल (डीपीसी) एक्ट से बाहर करने और कई दवाओं को इसके दायरे में लेने के नतीजे में होने जा रहा है। सौ से ज्यादा दवाओं पर इसका असर पड़ेगा। शहर के दवा विके्रताओं के बीच इसकी चर्चाएं शुरू हो गई हैं। डीपीसी के दायरे में कैंसर की साठ दवाएं शामिल होने से यह सस्ती हो जाएंगी, जबकि 48 दवाओं को बाहर किए जाने से

यह महंगी होंगी। इनमें ज्यादातर एंटीबायोटिक दवाएं हैं।
मुरादाबाद केमिस्ट ड्रगिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन के महामंत्री सर्वेश सिंघल ने बताया कि जो एंटीबायोटिक दवाएं महंगी होंगी वह सामान्य तौर से बहुतायत में इस्तेमाल होती हैं। खासकर वायरल संक्रमण के दिनों में इनकी बिक्री बढ़ जाती है। अब तक, डीपीसी के दायरे में होने के कारण सस्ती थीं इसलिए सामान्य मरीजों की पहुंच में आ गई थीं। उन्होंने बताया कि कैंसर की दवाएं अभी बहुत ज्यादा महंगी हैं जिसके चलते इनका खर्च वहन करना सामान्य मरीजों की पहुंच से बाहर है। डीपीसी के दायरे में आने से इनकी कीमत में कितनी कमी आएगी यह अभी साफ नहीं है।