केमिस्ट पर नहीं, ट्रांसपोर्ट पर मिली दवाएं

औषधि विभाग अधिकारियों ने की मामले पर लीपापोती
बुलंदशहर। औषधि विभाग की टीम ने रेड के दौरान स्थानीय ट्रांसपोर्ट में अवैध रूप से दवाइयों का भारी स्टॉक मिलने पर भी कोई कार्रवाई नहीं की। इससे संबंधित अधिकारियों पर मिलीभगत कर मामले की लीपापोती करने के आरोप लगाए जा रहे हैं। वहीं, अधिकारियों का कहना है कि जांच के बाद कई व्यापारियों की दवाइयों का स्टॉक मिला, जिस कारण कोई कार्रवाई नहीं की गई।

जानकारी अनुसार गाजियाबाद से बांग्लादेश के लिए कफ सिरप फैंसिड्रिल की करीब 900 पेटियों की खेप नगर के एक ट्रांसपोर्ट पर आई। ट्रांसपोर्ट मालिक ने इसे अपने पास अवैध रूप से रख लिया। इसकी गुप्त सूचना मिलने पर औषधि प्रशासन की टीम ने पुलिस के साथ यहां रेड डाली। बताया जा रहा है कि मौके पर टीम को फैंसिड्रिल सिरप की करीब नौ सौ पेटियां रखी मिली लेकिन ट्रांसपोर्ट मालिक ने मिलीभगत कर मामला दबा दिया। अधिकारी बिना कोई कार्रवाई किए ही वापस चले गए। बता दें कि किसी भी मेडिकल संचालक को कफ सिरप की अधिकतम 30 पेटियां ही रखने का नियम है। इसके बावजूद ट्रांसपोर्ट पर इतनी भारी मात्रा में दवाइयों का स्टॉक मिलने और कोई कार्रवाई नहीं किए जाने पर संदेह पैदा करता है।