अंग्रेजी दवा का ओवरडोज: नशे की चंगुल में फंस रहे हैं युवा

बिहार / बांका
जिले की युवा पीढ़ी पर धीरे-धीरे नशे ने अपना जाल फैलाना शुरू कर दिया है. इसकी चपेट में आकर स्कूली व युवक नशे के शिकार हो रहे हैं। सिर्फ बांका शहर की बात की जाए, तो शायद ही कोई जगह बची हो, जहां इन नशेडिय़ों अपना सेफ जोन न बनाया हो। मौका पाते ही ये अपनी नशे की लत पूरी कर लेते हैं। शहर में कई ऐसी दुकानें हैं, जहां पर नशीले सामान आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं।
युवा वर्ग में सबसे ज्यादा फोर्टवीन और बांड लाइट का प्रयोग धड़ल्ले से हो रहा  है ये अपनी जिंदगी को बरबाद कर रहे हैं। स्कूली बच्चों में नशे का चलन बढ़ा है कई मेडिकल दुकानदार इन बच्चों को फोर्टवीन का इंजेक्शन, कोरेक्स कफ सिरप आदि बिना किसी पर्चे के दे देते हैं। स्वास्थ्य विभाग के वरीय पदाधिकारियों ने कभी इस ओर ध्यान नहीं दिया है। आसानी से उपलब्ध होने के कारण भी युवा इसकी आदत पकड़ रहे हैं।