इंडियन इम्यूनोलॉजिकल्स ने बच्चों के लिए खसरा, रूबेला का टीका पेश किया

इंडियन इम्यूनोलॉजिकल्स ने बच्चों के लिए खसरा, रूबेला का टीका पेश किया

वैक्सीन निर्माता इंडियन इम्यूनोलॉजिकल्स लिमिटेड (आईआईएल) ने बच्चों के लिए अपना खसरा और रूबेला (एमआर) वैक्सीन माबेला लॉन्च किया। लाइव एटेनुएटेड एमआर वैक्सीन को इंडियन इम्यूनोलॉजिकल्स लिमिटेड द्वारा वियतनाम के पॉलीवैक इंस्टीट्यूट के साथ एक विशेष साझेदारी के माध्यम से विकसित किया गया है। माबेला दो खुराक वाली इंजेक्शन वाली वैक्सीन है। जहां पहली खुराक नौ महीने की उम्र में दी जानी है, वहीं दूसरी खुराक 16-24 महीने की उम्र में दी जानी है।

also read: भारत के राज्यों में मिस्ट्री निमोनिया को लेकर अडवाइजरी जारी

आईआईएल ने कहा कि व्यापक मानव नैदानिक ​​​​परीक्षणों के बाद टीका तैयार किया गया था, जिसने इसकी सुरक्षा और प्रभावकारिता साबित की है और इसका उद्देश्य घातक खसरा और रूबेला वायरस को नियंत्रित करने की तत्काल आवश्यकता को संबोधित करना है, जो हर साल वैश्विक स्तर पर एक लाख से अधिक बच्चों की जान ले लेता है। कंपनी ने अभी वैक्सीन की कीमत का खुलासा नहीं किया, लेकिन कहा कि उसके सभी टीकों की कीमतें किफायती हैं और एमआर वैक्सीन की कीमत सरकारी प्रोटोकॉल के अनुसार तय की जाएगी।

आईआईएल ने कहा कि एचबीआई डिवीजन ने 1998 में देश का पहला सुरक्षित वेरो सेल रेबीज वैक्सीन अभयरब विकसित किया था, जो आज दुनिया में सबसे ज्यादा बिकने वाला रेबीज वैक्सीन बनकर उभरा है। इसने डीपीटी, पेंटावेलेंट वैक्सीन, टीटी, हेपेटाइटिस-बी, एमआर, टीडी वैक्सीन जैसे कई बाल चिकित्सा टीके भी विकसित किए और भारत की स्वदेशी खुराक की लाखों खुराक के लिए थोक एंटीजन का निर्माण करके कोविड-19 महामारी से निपटने के प्रयासों में भी योगदान दिया।
Advertisement