आधार से स्वास्थ्य सिस्टम को स्मार्ट बनाने का फार्मूला

रायपुर (छ.ग.): राज्य में राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना (आरएसबीवाय ) और मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना (एमएसबीवाय) के स्मार्ट कार्ड के उपयोग में धांधली रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने स्मार्ट कार्ड को आधार से लिंक करने का फैसला लिया हैं। इस कार्य को बीमा कंपनी को सौंपा जाएगा। इसके लिए तीन महीने का समय दिया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार आधार नंबर से लिंक होने के बाद स्मार्ट कार्ड में धांधली नहीं होगी।

राज्य में शासकीय एवं पंजीकृत निजी अस्पतालों में मुफ्त इलाज के लिए आरएसबीवॉय एवं एमएसबीवाय योजना चल रहीं हैं। दोनों योजनाओं में वर्तमान में तीस हजार तक का इलाज वर्र्ष में मुफ्त किया जाता हैं। अक्टूबर से वर्तमान तीस हजार पैकेज को पचास हजार करनें की तैयारी हैं। इसके लिए नयी निविदा मंगाई गई हैं। इस बार निविदा की शर्तों में स्मार्ट कार्ड को आधार से जोडऩा शामिल हैं। इस माह के अंत में निविदा खुलेगी, जिससे स्पष्ट हो जाएगा की स्मार्ट कार्ड का काम किस बीमा कंपनी को मिल रहा हैं। उसे सबसे पहलें स्मार्ट कार्ड को आधार से लिंक करना होगा, इसके लिए वार्ड में शिविर लगाए जाएंगें।