‘नॉट फॉर सेल’ दवाइयां दूध के ड्रमों में भरकर ले जाते पकड़ा, दो एमआर भी अरेस्ट

जोधपुर (राजस्थान)। ‘नॉट फॉर सेल’ दवाइयां दूध के ड्रमों में भरकर ले जाते एक मिल्कमैन को गिरफ्तार किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। आरोपी से पूछताछ के बाद इस मामले में एमआर व फार्मासिस्ट सहित चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

एमआर व फार्मासिस्ट सहित चार गिरफ्तार

जानकारी अनुसार, रातानाडा थाना पुलिस ने पंचवटी कॉलोनी के सेक्टर सी में एक गोदाम के बाहर मिल्कमैन को काबू किया। उसकी मोटरसाइकिल पर दूध के नौ ड्रमों की तलाशी ली गई। दूध के ड्रमों में ‘नॉट फॉर सेल’ दवाइयां भरी हुई मिली। पुलिस ने औषधि नियंत्रक विभाग को तुरंत सूचित किया। औषधि नियंत्रक विभाग के अधिकारियों ने मौके पर पर आकर दवाइयां अपने कब्जे में ले ली हैं। आशंका जाहिर की गई है कि बाजार में बगैर चिकित्सकीय परामर्श के न बिकने वाली दवाइयों की कालाबाजारी की जा रही है। इस मामले में एमआर व फार्मासिस्ट सहित चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

सूचना मिलने पर की पुलिस ने कार्रवाई

पंचवटी कॉलोनी के सेक्टर-सी में दवाइयों का गोदाम है। पुलिस को गोदाम से दूध के ड्रमों में दवाइयां भरकर कालाबाजारी किए जाने की सूचना मिली थी। जांच के बाद उप निरीक्षक भंवरसिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम ने कॉलोनी में रेड कर दी।
गोदाम के बाहर मोटरसाइकिल सवार भाटेलाई पुरोहितान गांव में बिश्नोइयों की ढाणी निवासी दूध सप्लायर को पकड़ लियाा गया। उसके पास मोटरसाइकिल पर दूध सप्लाई के नौ ड्रम लटके हुए थे। इन ड्रमों की तलाशी लेने पर सभी ड्रम दवाइयों से भरे हुए मिले। इनके बारे में दूध सप्लायर कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया।

‘नॉट फॉर सेल’

सीरप की 492 शीशीयां और टेबलेट्स बरामद

पुलिस टीम ने औषधि नियंत्रक विभाग के अधिकारियों को सूचित किया गया। अतिरिक्त ड्रग कन्ट्रोलर दिनेश तनेजा व अन्य कर्मचारी मौके पर पहुंचेे। जांच के बाद बाइक, नौ ड्रम व दूध सप्लायर को थाने ले जाया गया। आरोपी के पास से अलग-अलग सीरप की 492 शीशीयां और 188 टेबलेट्स जब्त की गई।

दवाओं की कालाबाजारी की आशंका

एसआई भंवरसिंह ने बताया कि मौके से दवाइयों के साथ आरोपी मिल्कमैन श्रवण को काबू किया गया है। उससे पूछताछ के बाद उसी के गांव के मेडिकल व्यवसायी, चौहाबो व नागौरी गेट निवासी दो एमआर को भी हिरासत में लिया गया।
देर रात तक दोनों से पूछताछ की जा रही थी। जब्त की दवाइयों पर इन पर नॉट फॉर सेल लिखा हुआ है। ये दवाइयां डॉक्टरों को सैम्पल के तौर पर दी जाती हंै। आरोपी इन दवाइयों को गोदाम से लेकर ग्रामीण क्षेत्र में सस्ते दामों पर बेचने की योजना में था। समय रहते आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया।

Advertisement