एसटीएफ ने 39 स्थानों पर की छापेमारी, करोड़ों रुपए की नकली दवाएं जब्त

ब्रांडेड फार्मा

कटक। एसटीएफ ने 39 स्थानों पर छापेमारी कर एक करोड़ से अधिक कीमत की नकली दवाएं जब्त की हैं। कटक एसटीएफ टीम ने अंगुल में छापेमारी कर नकली पेंटोएसिड (डीएसआर) दवाएं जब्त कीं। इन दवाओं को अंगुल पुलिस स्टेशन को सौंप दिया गया। अंगुल पुलिस ने आरोपी संजीब कुमार साहू को गिरफ्तार कर लिया है। इस घटना में चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

ओवर-द-काउंटर दवाओं की जब्ती

बता दें कि 6 सितंबर, 2022 को कटक में नकली दवाइयां बरामद की गई थीं। नकली कोविड -19 दवाओं और ओवर-द-काउंटर दवाओं की जब्ती ने राज्य भर में हलचल मचाकर रख दी है। इन दवाओं के लेन-देन का लिंक बनासी, हिमाचल प्रदेश, बिहार, आगरा और दिल्ली तक फैला हुआ था। ड्रग विभाग ने पुलिस की मदद से राज्य और राज्य के बाहर छापेमारी की।

कटक में नकली दवाओं से संबंधित छह मामले दर्ज

गौरतलब है कि राज्य सरकार ने नकली दवाओं पर रोक के लिए ड्रग एन्फोर्समेंट स्क्वाड नामक एक विशेष टास्क फोर्स (एसटीएफ) का गठन किया हुआ है। कटक एसटीएफ की टीम ने कटक, अंगुल समेत राज्य में 22 और राज्य के बाहर 17 स्थानों पर निरीक्षण किया। कटक में नकली दवाओं से संबंधित छह मामले दर्ज किए गए हैं। अंगुल में चार और झारसुगुड़ा और बरगढ़ में एक-एक मामला दर्ज किया है।

कुल दस आरोपी गिरफ्तार

एसटीएफ ने राज्य के बाहर के आरोपियों सहित कुल 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। कटक टीम को एक करोड़ रुपये से ज्यादा कीमत की नकली दवाएं जब्त करने में सफलता मिली। कटक में सहायक औषधि नियंत्रक धर्मदेव पुहान, तुसार रंजन पाणिग्रही और हरिप्रिया मल्लिक की एक टीम छह स्थानों की शिकायतों पर काम कर रही है। इसके बावजूद नकली दवाओं की बिक्री पर कोई नियंत्रण नहीं हो पा रहा है।

Advertisement