अस्पताल में मरीज की मौत पर हंगामा, डॉक्टर पर गलत इलाज का आरोप

जांजगीर चंपा। बलौदा के अस्पताल में मरीज की मौत हो जाने पर परिजनों ने हंगामा कर डाला। परिजनों ने राजकेशर हॉस्पिटल के डॉक्टर पर गलत इलाज करने का आरोप लगाया है। मौके पर पहुंचे पुलिस व राजस्व अधिकारियों ने परिजनों को समझा-बुझाकर मामला शांत करवाया। वहीं मरीज के परिजनों ने मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है।

यह है मामला

भिलाई निवासी कृष्णा यादव (38) की तबीयत खराब होने पर उसे बलौदा के राजकेशर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। यहां डॉक्टर ने कृष्णा का चेकअप करने के बाद बताया कि उसकी सांसें नहीं चल रही है। आंखों की पुतलियां फैली हुई है। धडक़न नहीं चल रही है। डॉक्टर ने सीपीआर की सलाह दी। परिजनों की सहमति पर मरीज को सीपीआर दी गई। इसके 15 मिनट बाद भी मरीज कृष्णा यादव को होश नहीं आया। डॉक्टर ने कुछ देर बाद कृष्णा को मृत घोषित कर दिया।

मरीज को मृत घोषित करने केबाद उसकेभाई व दोस्तों कृष्णा के शव को ग्राम भिलाई ले गए। गांव में परिजन आरोप लगाने लगे कि कृष्णा तो अच्छा स्वस्थ था। डॉक्टर ने गलत इलाज किया होगा, तभी इसकी मौत हुई। ऐसे में कृष्णा के शव को लेकर सरपंच सदन यादव, ग्रामीण और मृतक के परिजन बलौदा के राजकेशर हॉस्पिटल पहुंचे और हंगामा खड़ा कर दिया।

मुआवजा राशि की मांग

हॉस्पिटल में हंगामे की खबर पाकर थाना प्रभारी मनोहर सिन्हा दलबल के साथ मौके पर पहुंच गए। वहां ग्रामीण व परिजनों ने पूछा कि हॉस्पिटल प्रबंधन ने मरीज की मौत की सूचना पुलिस को क्यों नहीं दी। प्रदर्शनकारियों ने डॉक्टर द्वारा गलत इलाज करने का आरोप लगाया और मुआवजा राशि की मांग करने लगे। हॉस्पिटल प्रबंधन ने ग्रामीणों की बात नहीं मानी तो वे रात के समय सभी थाना पहुंच गए। थाना प्रभारी मनोहर सिन्हा ने मृतक के परिजनों को पोस्टमार्टम कराने और रिपोर्ट के आधार पर कानूनी कार्रवाई करने की सलाह दी।

परिजनों ने उच्चस्तरीय जांच की मांग उठाई

अगले दिन सुबह सरपंच व सैकड़ों ग्रामीण फिर से हॉस्पिटल पहुंचे और नारेबाजी करने लगे। ग्रामीणों ने मामले की निष्पक्ष जांच कराने की मांग उठाई। सूचना मिलने पर डीएसपी प्रदीप सोरी पुलिस दलबल के साथ मौके पर पहुंचे। अधिकारियों ने ग्रामीणों से बात करने पर उचित मुआवजा दिलाने की बात की। उधर, हॉस्पिटल प्रबंधन ने मुआवजा देने से साफ मना कर दिया। अधिकारियों के समझाने पर हॉस्पिटल प्रबंधन कुछ सहयोग राशि देने के लिए राजी हुआ। इसके बाद पुलिस ने शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर होगी कार्रवाई

बलौदा के थाना प्रभारी मनोहर सिन्हा ने बताया कि मृतक के परिजनों ने राजकेशर हॉस्पिटल के डॉक्टरों पर लापरवाही से गलत इलाज करने का आरोप लगाया है। उन्होंने इस मामले में एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने का इंतजार किया जा रहा है। रिपोर्ट के आधार पर ही कार्रवाई की जाएगी।

Advertisement