बिहार: लांच सप्ताह में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए

पटना
मेरठ में अवैध औषधि निर्माता के खुलासे के बाद बिहार में राज्य औषधि नियंत्रक हेमंत कुमार सिन्हा ने राज्य भर के औषधि नियंत्रक हेमंत कुमार सिन्हा ने राज्य भर के औषधि निरीक्षकों को पूर्ण छानबीन के आदेश दिए।

परिणामत: राज्य भर में से 1086 प्रकार की दवाइयां जब्त की जिनको बेचने की अनुमति नहीं थी, 178 प्रकार की दवाओं की बिक्री पर रोक लगा दी गई, 129 प्रकार की दवाआं के सैंपल लिए गए।

उपरोक्त जानकारी देते हुए सिन्हा ने बताया कि एक औषधि निर्माण यूनिट सामने आई जो बिना अनुमति के कार्य कर रही थी। जांच सप्ताह के दौरन कुल लगभग 10 करोड़ रुपए की औषधियां जब्त की गई। विभाग ने इन दवाइयों का रिकार्ड तलब किया है। रिकार्ड न देने की स्थिति में आयकर विभाग ने पनेलिटी 3 गुना वसूलेगी। दवाइयों के महंगे एंटीबायोटिक, अवधि समाप्त दवाइों पर फ्रेश तारीक लगाने के प्रमाण भी सामने आए हैं।

राज्य औषधि नियंत्रक सिन्हा ने बताया कि बिल पर दवा खरीदो बिल पर बेचो अवैध कारोबार मंजूर नहीं और जांच जारी रहेगी। राज्य को अनैतिक औषधियों से मुक्त करवाना प्रथम लक्ष्य है। ऐसी कार्यवाही आगे भी चलेगी।