डिलीवरी के दौरान महिला की मौत होने पर दो हॉस्पिटल किए सील

स्वास्थ्य विभाग

मैनाठैर (मुरादाबाद)। डिलीवरी के दौरान महिला की मौत होने के मामले में स्वास्थ्य विभाग ने संज्ञान लिया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने संबंधित अपंजीकृत अस्पताल और एक अन्य हॉस्पिटल को सील कर दिया है। सीलिंग कार्रवाई की खबर मिलते ही क्षेत्र के कई झोलाछाप अपने अस्पताल बंद कर फरार हो गए। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने महमूदपुर माफी में ही एक अस्पताल संचालक को नोटिस जारी कर कागजात मंगवाए हैं।

यह है मामला

हजरत नगर गढ़ी थाना क्षेत्र के गांव बराही की विवाहिता को प्रसव पीड़ा होने लगी। इस पर परिजनों ने उसे महमूदपुर माफी नगर में एक अपंजीकृत एएस नर्सिंग होम में भर्ती कराया था। डिलीवरी के बाद महिला की मौत हो गई। इस पर आक्रोशित परिजनों ने हंगामा कर दिया। वहीं समझौता होने पर परिजन महिला के शव और नवजात को अपने साथ ले गए। नवजात का मुरादाबाद में इलाज चल रहा है।

मौत के बाद हरकत में आया विभाग

अस्पताल में महिला की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया। नोडल अधिकारी डॉ. नरेंद्र कुमार ने टीम के साथ संबंधित एएस अस्पताल पर छापा मारा। कार्रवाई के दौरान अस्पताल संचालक फरार रहा। जांच में पता चला कि इस नर्सिंग अस्पताल को अवैध रूप से संचालित किया जा रहा था। नोडल अधिकारी ने अवैध रूप से चल रहे अस्पताल को सील कर दिया।

बिना रजिस्ट्रेशन अस्पताल में चल रहा ओटी

इसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम पंडित नगला स्थित एमएच हॉस्पिटल पहुंची। इस अस्पताल का भी रजिस्ट्रेशन नहीं मिला। हैरानी की बात यह है कि इस अस्पताल में ओटी भी संचालित था। नोडल अधिकारी ने उक्त अवैध अस्पताल को भी सील कर दिया।

अस्पताल संचालक को नोटिस जारी

इसके अलावा महमूदपुर माफी में ही संचालित एक अस्पताल संचालक को नोटिस जारी कर कागजात तलब किए हैं। नोडल अधिकारी ने कहा कि जो भी अस्पताल अवैध रूप से संचालित हंै, उनके खिलाफ केस दर्ज करवाया जाएगा।

Advertisement