आयुर्वेदिक दवा पौरूष जीवन और गुड हेल्थ कैप्सूल की बिक्री पर बैन

फिरोजाबाद। आयुर्वेदिक दवा पौरूष जीवन और गुड हेल्थ कैप्सूल बेचने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। यह प्रतिबंध सैंपल जांच के दौरान मानकों पर सही नहीं उतरने के चलते लगाया गया है। क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी ने दुकानदारों को इन दवाओं की खरीद व बिक्री न करने के निर्देश जारी किए हैं।

बता दें कि जिले में दो आयुर्वेदिक दवाइयों की बिक्री करने पर रोक लगा दी गई है। ये दोनों दवाइयां पौरुष जीवन और गुड हेल्थ कैप्सूल हैं। अब इन्हें मेडिकल स्टोर संचालक बेच नहीं सकेंगे। क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी डॉ. शरद वर्मा ने बताया कि नोएडा की कंपनी मैसर्स देव फॉर्मेसी आयुर्वेदिक औषधि पौरुष जीवन कैप्सूल का निर्माण करती है। वहीं, मध्य प्रदेश के इंदौर की कंपनी मैसर्स मेडविन फार्माटेक गुड हेल्थ कैप्सूल बनाती है।

दोनों औषधियों में कॉर्टिको स्टेरायड की मात्रा मिली

उन्होंने बताया कि उपरोक्त दोनों दवाइयां बाजार में बिक रहीं थीं। प्रदेश स्तर पर इनके सैंपल लेकर जांच के लिए लैब में भेजे। जांच रिपोर्ट में दोनों औषधियों में कॉर्टिको स्टेरायड की मात्रा पाई गई। यह जनस्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।

मिश्रण पर पहले से है प्रतिबंध

आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी ने बताया कि कार्टिको स्टेरायड का नियमित सेवन करने से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। लोगों को चलने-फिरने में परेशानी होने लगती हैं। इन दवाओं में जो मिश्रण है, उस पर भी प्रतिबंध है। उन्होंने चेतावनी दी कि जिले में जो भी मेडिकल स्टोर संचालक इन दवाओं की बिक्री करता मिलेगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए समय समय पर दवा दुकानों पर छापामारी भी की जाएगी, ताकि इन दवाओं की बिक्री पर रोक लगाई जा सके।

Advertisement