600 केमिस्टों को दवा सेल रोकने का नोटिस !

चंडीगढ़ : जांच में 30 दवाओं के सैंपल फेल होने के कारण चंडीगढ़ स्वास्थ्य विभाग शहर के करीब 600 कैमिस्टों को संबंधित दवाओं के नाम और बैच की सूची भेजकर सेल रोके जाने की तैयारी कर रहा है। ड्रग कंट्रोलर बाकायदा दवा दुकानों का निरीक्षण कर कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे। सूत्रों के मुताबिक, चंडीगढ़ की आर.डी.टी.एल. लैब द्वारा 7 दवाओं को नकली और तय मानक से कम मात्रा में पाया है। 23 दवाओं की जांच कोलकाता, मुंबई, चेन्नई और गुवाहटी की प्रयोगशाला में की गई है।

सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (सीडीएससीओ) की रिपोर्ट कहती है कि 30 ऐसी दवाओं के सैंपल फेल हुए जिनमें सॉल्ट की मात्रा रैपर पर लिखे गए सॉल्ट के मुकाबले बेहद कम थी। दवाओं के कोम्बिनेशन भी गलत पाए गए। रैपर पर अलग सॉल्ट के कोम्बिनेशन थे जबकि दवा में सॉल्ट दूसरे मिले। कुछ दवाओं में ऐसे पार्टिकल भी मिले जो शरीर के अंदर पहुंचकर नुकसान पहुंचा सकते हैं। जांच में एक ऐसे इंफ्यूजन सैट का सैंपल भी फेल हुआ जिसका बैच नंबर जे-01115 है और उसे अहमदाबाद की एक कंपनी ने तैयार किया है। ऐसा सैट अगर किसी मरीज को ग्लूकोज चढ़ाने के लिए इस्तेमाल में लाया जाए तो जान का खतरा हो सकता है। फार्माकोलॉजी विशेषज्ञों का कहना है कि तय मात्रा से कम या ज्यादा सॉल्ट होने से दवाएं लैब टेस्ट में फेल होती हैं। ऐसी दवा से इलाज के दौरान मरीज को संक्रमण हो सकता है। यह दवाएं थैरेपिटिक इफैक्ट नहीं दे पाती हैं। ऐसी दवाओं से मरीज की जान भी जा सकती है।

रैपर पर लिखे सॉल्ट के अनुपात में कम थी दवा में सॉल्ट की मात्रा, कुछ दवाएं पानी में घुलनशीन नहीं थी
दवा                               बैच नंबर                        इलाज
1. कार्बिमैजोल                   टी-12701                   हाइपर थायरोएड
2. इकोफ्लोरा प्रोबायोटिक       एफ.एल.ए.6टी1              पाचन क्रिया का इलाज
3. काइमोटास फोरट             17एल.जी.सी.टी.072       जख्म भरने के लिए
4. गलिमिप्राइड                  जी.एल.2जी47               मधुमेह का इलाज
5. सालबुटामोल                  टी-1264001               अस्थमा
6. गलैनपलैन आई.वी.          ए016002ए                 अल्सर का इलाज
7.अरीसटोजाइम लिक्विड        डी78जी016                 पेट के इलाज में
8.डाइविरोन एसआर              टी-10901                  पेन किलर
9.सेराक्स-डी                      एम 7026                   पेन किलर
10.कलोरफेनिरैमाइन             1610061                  एंटी अलर्जी
11. यूरोफिट                      यू.पी.टी.16016            यूरिनरी ट्रीटमैंट
12.लोपरामाइड हाइड्रोक्लोराइड    ए.टी.15044               पेट
13.डिकलोफिनिक इंजैक्शन       आर.ओ.-10                पेन किलर
14. पाइराजिनामाइड              टी-170407                एंटी टीबी ड्रग
15.पैरासिटामोल                   पी.एम.टी.जी. 16376     बुखार
16.ग्रिसयोफुलविन                जी.आर.एस.-1016        एंटीफंगल
17.ऑक्सफिन                     यू.डी.टी.-5622सी         एंटीबायोटिक
18.नोरफ्लोक्सासिन               ए.टी.70033               एंटीबायोटिक
19.टाइगिसलाइन                   203853                  एंटीबायोटिक
20.डाक्सटी-एस.एल.              58सीडीएस282             एंटीबायोटिक
21.एमीकोल-एल.बी.               क्यूसीपी-160607         एंटीबायोटिक
22.एमोक्सिसिलिन                 टी-17017                 एंटीबायोटिक
23.ट्रैमाडोल एच.सी.एल.           आर.जी.आर.0107        मसल रिलैक्सेंट
24.कोडिन फोसफेट                 ए.एफ.-0127              कफ सिरप
25. इट्रोक्सिब                       1605105                 पेन किलर
26. अमोक्सिसिलिन कलोवुनेट     डी.एच.बी.-057            एंटीबायोटिक
27.अमोक्सिसिलिन ट्राईहाइड्रेट     टी-17017                 एंटीबायोटिक
28.डेक्सटोमिथोरफन               एच.एल.-1701007       खराब गले का इलाज
29 टाइगिसलाइन इंजैक्शन         203853                   एंटीबायोटिक
30. मिथाइलअरगोमिट्रिन           आई-10203               पोस्टपार्टम हेमोरेज

(दवाओं की सूची, साभार: पंजाब केसरी)