निरोध से छिड़ा विवाद, अब निरोधक का विस्तार

नई दिल्ली : कुछ महीने पहले केंद्र सरकार द्वारा कंडोम की पैकिंग पर आशा निरोध छापने को लेकर देशभर में अच्छा-खासा विवाद खड़ा हो गया था। आशा वर्करों ने निरोध पैकेट से आशा नाम हटाने को लेकर एक तरह से मोर्चा खोल दिया था। अब ताजा खबर ये है कि सरकार ने दो नए गर्भ निरोधकों की शुरूआत कर देश में लोगों को उपलब्ध परिवार नियोजन के विकल्पों में विस्तार किया है। इनमें एक गर्भ निरोधक इंजेक्शन रूप में और दूसरा गोली रूप में है।

ये गर्भ निरोधक वर्तमान में चिकित्सा महाविद्यालयों और जिला अस्पतालों में मुफ्त उपलब्ध करवाए गए हैं। अब तक दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, हरियाणा, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, गोवा और ओडिशा में इसकी शुरुआत की गई है। इन गर्भ निरोधकों की शुरूआत केंद्रीय परिवार नियोजन के मिशन परिवार विकास के तहत की गई है। जानकारी के मुताबिक, ये गर्भ निरोधक सुरक्षित और प्रभावी हैं। अंतरा नामक इंजेक्शन तीन महीनों के लिए कारगर है जबकि छाया नामक गोली एक सप्ताह के लिए प्रभावी होगी। दंपतियों की बदलती जरूरतों को पूरा करने में दोनों दवा कारगर साबित होगी।