ड्रग रैकेट का भंडाफोड़, टाइडोल दवा अवैध रूप से बेचता युवक अरेस्ट

हैदराबाद। ड्रग रैकेट का भंडाफोड़ करने में ड्रग्स कंट्रोल एडमिनिस्ट्रेशन (डीसीए) को सफलता मिली है। डीसीए अधिकारियों ने पुलिस को साथ लेकर चारमीनार क्षेत्र के विभिन्न इलाकों में छापेमारी की और एक युवक को पकड़ लिया। पकड़ा गया युवक अवैध रूप से युवाओं को टाइडोल 100 टेबलेट बेच रहा था।

यह है मामला

डीसीए अधिकारियों को सूचना मिली कि अमन नगर ए, याकूतपुरा निवासी अरशद खान, चारमीनार बस स्टैंड पार्किंग क्षेत्र, न्यू शाहलीबंदा रोड पर अवैध रूप से टाइडोल 100 टैबलेट (टेपेंटडोल टैबलेट 100 मिलीग्राम) बेच रहा है। अधिकारियों ने मौके पर रेड की और युवक से टाइडोल 100 टेबलेट की 400 टेबलेट जब्त कर ली। डीसीए के महानिदेशक वीबी कमलासन रेड्डी ने बताया कि जब्त किए स्टॉक की कुल कीमत 23,000 रुपये है।

कमलासन रेड्डी ने बताया कि टेपेंटाडोल ओपिओइड एनाल्जेसिक है, जिसका उपयोग तीव्र (चोट, सर्जरी, आदि के बाद) और पुरानी मस्कुलोस्केलेटल दर्द दोनों के लिए मध्यम से गंभीर दर्द के प्रबंधन के लिए किया जाता है। यह मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में ओपिओइड रिसेप्टर्स पर कार्य करके काम करता है, जिससे शरीर के दर्द को समझने और प्रतिक्रिया करने के तरीके में बदलाव आता है।

इसके दुरुपयोग और लत की संभावना के कारण, टैपेंटाडोल को ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट के तहत अनुसूची एच1 दवा के रूप में वर्गीकृत किया गया है। आरोपी अरशद खान के पास कोई दवा लाइसेंस नहीं मिला है और वह अवैध रूप से नशे की लत लगाने वाली दवा टेपेंटाडोल बेच रहा था। इसे केवल पंजीकृत मेडिकल प्रैक्टिशनर के प्रिस्क्रिप्शन के साथ खुदरा फार्मेसियों द्वारा ही बेचा जा सकता है।

छापामार टीम में ये रहे शामिल

छापेमारी टीम में हैदराबाद ज़ोन के सहायक निदेशक टी. राजामौली, चारमीनार के ड्रग्स इंस्पेक्टर बी. लक्ष्मी और हुसैनी आलम पुलिस स्टेशन के पुलिस उप-निरीक्षक एस. नवीन शामिल रहे।

Advertisement